1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

एक जैसी आंखें यानि डिसलेक्सिया बीमारी

"तारे जमीं पर" फिल्म में इनू को डिसलेक्सिया नाम की बीमारी थी. उसे अक्षर उल्टे पुल्टे दिखाई पड़ते थे. अब वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि ऐसा दिमाग नहीं, आंखों की वजह से होता है.

अब तक यह माना जाता था कि डिसलेक्सिया मस्तिष्क से जुड़ी बीमारी है. लेकिन अब वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि यह दिमाग से नहीं बल्कि आंखों की कोशिकाओं से जुड़ी बीमारी है. रॉयल सोसाइटी जर्नल में छपे शोध के मुताबिक, आंखों की पुतली यानि रेटिना के भीतर कोशिकाओं के असामान्य पैटर्न के कारण यह बीमारी होती है.

आम तौर पर इंसान की एक आंख ज्यादा प्रभावशाली होती है. और दूसरी थोड़ी कम. प्रभावशाली आंख में कोशिकाओं का पैटर्न गोलकार होता है. वहीं दूसरी आंख में यह पैटर्न अंडाकार होता है. प्रभावशाली आंख हमेशा सटीक तस्वीर मुहैया कराती है, जबकि दूसरी आंख की तस्वीर कमतर होती है. दोनों तस्वीरें जब दिमाग तक पहुंचती हैं तो मस्तिष्क प्रभावशाली आंख की तस्वीर को मुख्य तस्वीर मानता है और उसका प्रतिबिंब हमें दिखाता है.

Symbolbild Auge (Fotolia/Serg Zastavkin)

रेटिना के भीतर दिखाई देता कोशिकाओं का पैटर्न

लेकिन जिन लोगों को डिसलेक्सिया होता है, उनकी दोनों आंखों में एक जैसा गोलाकार पैटर्न होता है. इसका मतलब यह है कि दोनों आंखों में प्रभावशाली होने की होड़ सी लगी रहती है. इस होड़ के चलते मस्तिष्क असमंजस में पड़ जाता है कि किस आंख की तस्वीर को सही माना जाए. इस असंजस के चलते मस्तिष्क अक्षरों पर फोकस नहीं कर पाता. और अक्षर उल्टे पुल्टे दिखाई पड़ते हैं.

प्रोफेसर जॉन श्टाइन ऑक्सफर्ड यूनिवर्सिटी में ब्रिटिश डिसलेक्सिया एसोसिएशन के एक्सपर्ट एडवाइजर हैं. प्रोफेसर श्टाइन इस जानकारी को बड़ी कामयाबी मानते हैं. उनके मुताबिक पहली बार डिसलेक्सिया का सही कारण पता चला है. अब इसके लिए इलाज का ज्यादा कारगर तरीका पाया जा सकता है. वैज्ञानिकों को अब सिर्फ यह पता लगाना है कि दोनों आंखों में कोशिकाओं का पैटर्न आखिर एक जैसे क्यों हो जाता है.

 

 

DW.COM

संबंधित सामग्री