1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

एक गोली की कीमत 57 हजार रुपये

दवा की एक गोली की कीमत 57,000 रुपये होनी चाहिए क्या? पश्चिमी देशों के हिसाब से भी हेपेटाइटिस सी की एक गोली के लिए 700 यूरो की कीमत बहुत ज्यादा है.

हेल्थ विशेषज्ञ बेशर्म कीमत और अनैतिक मुनाफे के लिए दवा कंपनी गिलीड की आलोचना कर रहे हैं तो हेल्थ इंश्योरेंस कंपनियां हेपेटाइटिस सी के इलाज की बढ़ती कीमत से जूझ रही हैं. अमेरिकी दवा कंपनी की नई दवा सोवाल्डी के कारण जनवरी से अब तक जर्मनी की एओके इंश्योरेंस कंपनी के 12 करोड़ यूरो खर्च हुए हैं और इस साल के आखिर तक कुल लागत एक अरब यूरो तक पहुंच जाएगी. एओके के प्रमुख युर्गेन पेटर ने बताया, "ऐसा नहीं हो सकता कि एक दवा जिसे बनाने की कुल लागत सिर्फ 100 यूरो आती है उसके लिए 60,000 यूरो लिए जाएं."

जर्मनी में करीब तीन लाख लोग हेपेटाइटिस सी का शिकार हैं. विशेषज्ञों के मुताबिक इनमें से एक तिहाई का लीवर इस बीमारी के कारण खराब हो जाता है. सोवाल्डी दवा की एक गोली कीमत करीब 700 यूरो यानि 57,000 रुपये पड़ती है. और कम से कम बारह हफ्ते ये दवाई रोज लेनी पड़ती है. यानि 84 खुराक की कुल कीमत करीब 60,000 यूरो पड़ती है. एओके के आंकड़ों के मुताबिक सभी मेडिकल कंपनियों को इस दवा के लिए साल में पांच अरब का खर्च उठाना पड़ेगा.

दुनिया भर में 17 करोड़ लोग हेपेटाइटिस सी से ग्रस्त हैं और अमेरिका में करीब 32 लाख इससे जूझ रहे हैं. इलाज नहीं होने की स्थिति में लीवर का कैंसर और फिर इसके फेल होने का कारण बन सकती है.

दूसरी फार्मा कंपनियां भी इस मुनाफे में हिस्सा चाहती हैं. अमेरिकी कंपनी मैर्क एंड को ने हेपेटाइटिस सी की दवा पर काम कर रही एक अन्य कंपनी इडेनिक्स को खरीदने की योजना बनाई है. इडेनिक्स की दवा आईडीएक्स 21437 एक प्रोटीन को रोक देती है जो हेपेटाइटिस सी के वायरस के बढ़ने के लिए जरूरी होता है. ये दवा अभी वैसे तो शुरुआती दौर में ही है लेकिन ये सोवाल्डी की ही तरह शरीर में काम करती है.

गिलीड कंपनी अपनी दवा सोवाल्डी से आठ हफ्ते में बीमारी को 90 फीसदी ठीक करने का दावा करती है. दिसंबर में इस दवा को बाजार में उतारे जाने के बाद से ये दवा अमेरिका और यूरोप में 80,000 मरीजों को लिखी गई है. शुरुआती महीनों में ही इस दवा से कंपनी ने 2.3 अरब डॉलर कमाया है.

एएम/एमजे (डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री