1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

एएफडी के खिलाफ जर्मनी में प्रदर्शन शुरू

जर्मनी के संसदीय चुनावों में धुर दक्षिणपंथी पार्टी एएफडी की जीत के बाद जर्मनी के कुछ शहरों में विरोध प्रदर्शन होने लगे हैं. नस्लवाद और चरमपंथ के विरोधी एएफडी के खिलाफ सड़कों पर उतर आए हैं.

जर्मनी की राजधानी बर्लिन के मशहूर अलेक्जांडर प्लात्स पर रविवार देर शाम सैकड़ों प्रदर्शनकारी जमा हो गए. बरसात के बावजूद प्रदर्शनकारी धुर दक्षिणपंथी पार्टी एएफडी की जीत का विरोध करने लगे. जर्मनी के चुनावों में एएफडी को पहली बार 13 फीसदी से कुछ ज्यादा वोट मिले हैं. इस तरह 72 साल बाद कोई धुर दक्षिणपंथी जर्मनी की संसद में दाखिल हुई है.

बर्लिन में जिस इमारत में एएफडी जीत का जश्न मना रही थी, वहां भी प्रदर्शनकारी जमा हो गए. बाहर जमा हुए प्रदर्शनकारियों ने "नस्लवाद विकल्प नहीं है" और "नाजियों बाहर जाओ" जैसे नारे लगाए. थोड़ी देर बाद "पूरा बर्लिन तुमसे नफरत करता है" जैसे नारे भी गूंजने लगे. प्रदर्शनकारियों की बढ़ती संख्या को देखते हुए पुलिस ने इलाके की घेराबंदी कर दी है. प्रदर्शनकारियों को एएफडी के मुख्यालय तक पहुंचने से रोका जा रहा है.

अलेक्जांडर प्लात्स में हो रहे विरोध प्रदर्शन में 22 साल की लीजा भी शामिल हुई. डीडब्ल्यू की केट ब्रैडी से बातचीत करते हुए लीजा ने कहा, "खास तौर पर ऐसे समय में, मुझे लगता है कि यह बेहद जरूरी है कि हम नस्लवाद और विदेशी मूल के लोगों के प्रति घृणा के खिलाफ आवाज उठाएं. और हम एएफडी जैसी दक्षिणपंथी विचारधाराओं का विरोध करें."

जर्मनी के कोलोन शहर में भी एएफडी के खिलाफ प्रदर्शन हुए हैं. शहर की पहचान कहे जाने वाले कैथीड्रल के सामने बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारी जमा हुए और फिर मार्च निकाला. प्रदर्शनकारियों के हाथ में एक बैनर था जिस पर लिखा था, "जो भी चुप है वो गलती में शामिल है."

कैट ब्रैडी/ओएसजे

संबंधित सामग्री