1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

एंडरसन विवाद: पीएमओ के पास फोन कॉल रिकॉर्ड नहीं

वॉरन एंडरसन के भारत से अमेरिका लौटने की परिस्थितियों पर उठते सवालों के बीच भोपाल गैस पीड़ित पक्ष को झटका लगा है. प्रधानमंत्री कार्यालय ने कहा है कि उसके पास 1984 में अमेरिकी सरकार से कोई फोन कॉल आने का रिकॉर्ड नहीं है.

default

वॉरन एंडरसन

सूचना के अधिकार के तहत इस मामले पर सरकार से जानकारी मांगी गई थी जिसके बाद प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने कोई रिकॉर्ड न होने का जवाब दिया है. इस विवाद पर पीएमओ से सूचना मिलने के बाद उन परिस्थितियों को समझने में मदद मिलती जिनके चलते यूनियन कार्बाइड के पूर्व प्रमुख एंडरसन को जमानत मिलने के बाद पहले भोपाल से दिल्ली और फिर दिल्ली से अमेरिका जाने दिया गया.

Unglück in Indien Bhopal 1984

आरटीआई याचिका में पांच सवाल पूछे गए थे जिसमें भोपाल हादसे के बाद प्रधानमंत्री कार्यालय से अन्य देशों के साथ हुई टेलीफोन पर हुई बातचीत के बारे में जानकारी भी मांगी गई.

याचिकाकर्ता ने यह भी जानना चाहा कि 6 से 8 दिसम्बर 1984 के बीच इस संबंध में पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने अमेरिकी सरकार के किसी प्रतिनिधि को कोई फोन किया था या फिर उन्हें फोन आए थे.

इसी दौरान एंडरसन भारत आए थे. केंद्रीय सार्वजनिक सूचना अधिकारी संयुक्ता रे ने बताया, "याचिकाकर्ता दिसम्बर 1984 में प्रधानमंत्री की फोन पर बातचीत का ब्योरा लेना चाहता था. इस मामले को प्रधानमंत्री कार्यालय भेज दिया गया. पीएमओ ने अपने जवाब में कहा है कि उसके पास ऐसी कोई जानकारी नहीं है."

2-3 दिसम्बर की रात भोपाल में यूनियन कार्बाइड से जहरीली गैस के रिसाव के चलते बड़ी त्रासदी हुई जिसमें करीब 15,000 लोगों की मौत हुई. हादसे के तीन दिन बाद वॉरन एंडरसन ने भारत का दौरा किया और भोपाल में उन्हें मध्य प्रदेश पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था. स्थानीय अदालत ने उन्हें बाद में जमानत दे दी और फिर सात दिसम्बर 1984 को कभी वापस न आने के लिए एंडरसन अमेरिका लौट गए.

वहीं भोपाल ग्रुप ऑफ इन्फोरमेशन एंड एक्शन की रचना धींगड़ा कहती हैं कि उन्हें यह नहीं पता कि क्या सरकार के पास वाकई इस संबंध में जानकारी नहीं है या फिर मामले को ठंडा करने के लिए वह रिकॉर्ड न होने की बात कह रही है. रचना के मुताबिक यह सब जानते हैं कि एंडरसन को भोपाल से दिल्ली राज्य सरकार के विमान में लाया गया था. उसके बाद वह भारत से भी बच कर निकलने में सफल हो गए.

भोपाल गैस हादसे में हाल ही में एक कोर्ट ने सात आरोपियों को सेक्शन 304 ए के तहत दो साल जेल की सजा सुनाई है. फैसले में एंडरसन के खिलाफ कुछ नहीं कहा गया है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: आभा एम

संबंधित सामग्री