1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

एंडरसन मामले पर सवालो में घिरे अर्जुन सिंह

भोपाल गैस कांड मामले में तात्कालीन मुख्यमंत्री अर्जुन सिंह पर लगातार सवाल उठाए जा रहे हैं. कैसे युनियन कार्बाइड प्रमुख वॉरेन एंडरसन को रिहाई मिल गई और कैसे वे भोपाल से जा सके

default

युनियन कार्बाइड के सीईओ वॉरेन एंडरसन के भोपाल से बाहर जाने के मामले में तत्कालीन मुख्यमंत्री अर्जुन सिंह लगातार सवालों में घिरते जा रहे हैं. कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह और आर के धवन का कहना है कि सिर्फ अर्जुन सिंह ही इस मामले में जवाब दे सकते हैं कि ये हुआ कैसे.

गुरुवार को कहा जा रहा था कि अमेरिका के दबाव के कारण दिसंबर 1984 में एंडरसन को जाने दिया गया हो, ऐसा संभव है. दिग्विजय सिंह का कहना है कि उन्हें उस समय की घटनाओं की जानकारी नहीं है क्योंकि वे मध्यप्रदेश सरकार से मंत्री के तौर पर इस्तीफा दे चुके थे और लोकसभा चुनावों के लिए प्रचार कर रहे थे. "बयान में ही मैंने साफ किया है कि मैं चुनाव प्रचार कर रहा था और मुझे उन घटनाओं के बारे में कुछ नहीं पता कि कैसे एंडरसन को बेल मिली और वे रिहा किए गए. अगर कोई इस बात का जवाब दे सकता है तो वो तत्कालीन मुख्यमंत्री अर्जुन सिंह जी हैं और उस समय मध्यप्रदेश के मुख्य सचिव रहे मोती सिंह, भोपाल के कलेक्टर और उस समय के एसपी स्वराज पुरी."

Indien Bhopalunglück

केंद्र सरकार और राज्य सरकार के फैसले पर दिग्विजय सिंह ने कहा है कि वे प्रतिक्रिया नहीं देना चाहते है. उन्होंने कहा कि भोपाल गैस कांड के तुरंत बाद राजीव गांधी चुनाव प्रचार बीच में ही छोड़ भोपाल गए और पीड़ितों से मुलाकात की. साथ ही प्रभावित इलाकों का दौरा भी किया. सरकार ने राज्य को हर संभव मदद दी. राजीव गांधी के निजी सचिव रहे आर के धवन का भी यही कहना था कि एंडरसन कैसे जा सके इस बारे में यदि कोई सही जानकारी दे सकता है तो वो अर्जुन सिंह ही हैं. धवन का कहना था कि उन्हें विश्वास नहीं कि राजीव गांधी को घटनाक्रम के बारे में कोई जानकारी रही होगी या फिर उन्होंने अर्जुन सिंह से कहा होगा कि वे एंडरसन के लिए एयरपोर्ट जाने का इंतज़ाम करें ताकि वो भोपाल से जा सकें. उधर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिव राज सिंह चौहान ने भी अर्जुन सिंह से उन परिस्थितियों के बारे में बताने को कहा है जिन में एंडरसन गए. "अर्जुन सिंह इस बारे में सफाई दें कि क्या उन्होंने राज्य का हवाईजहाज़ एंडरसन को खुद दिया था या फिर किसी और ने उनसे ऐसा करने को कहा. साथ ही ये भी बताएं कि इस तरह का निर्देश दिया ही क्यों गया." शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि इस मुद्दे पर उन्होंने अर्जुन सिंह को एक पत्र भी भेजा है.

उधर ट्रायल कोर्ट ने कहा है कि भोपाल गैस ट्रेजेडी के तीन दिन बाद ही पुलिस ने युनियन कार्बाइड के सीईओ वॉरेन एंडरसन सहित दो लोगों को बेल पर रिहा कर दिया था.

रिपोर्टः पीटीआई/आभा मोंढे

संपादनः राम यादव

संबंधित सामग्री