1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

ऊहापोह में फंसे हैं पूर्व कप्तान यूनुस ख़ान

पाकिस्तान के पूर्व कप्तान यूनुस ख़ान अपने करियर से जुड़ा अहम फ़ैसला करने का मन बना रहे हैं. अनिश्चितकालीन पाबंदी झेल रहे यूनुस या तो पीसीबी से फ़ैसले के ख़िलाफ़ अपील करेंगे या फिर कोर्ट में मुक़दमा करेंगे.

default

यूनुस ख़ान ने पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड को एक नोटिस भेज कर उन पर पाबंदी लगाए जाने की वजहों को स्पष्ट करने के लिए कहा लेकिन बोर्ड ने उन्हें औपचारिक रूप से अपील करने की सलाह दी. अपने वकील अहमद क़य्यूम से बात करने के बाद यूनुस फ़ैसला करने वाले हैं कि वह कोर्ट में याचिका दायर करें या फिर अनिश्चितकालीन पाबंदी के ख़िलाफ़ पीसीबी में अपील दायर करें.

Ijaz Butt Pakistan Cricket

पीसीबी प्रमुख एजाज़ बट्ट

यूनुस के वकील क़य्यूम ने बताया, "यूनुस ने सभी दस्तावेज़ों पर हस्ताक्षर कर दिए हैं और उनका केस काफ़ी मज़बूत है. लेकिन हमें मामले को कई नज़रियों से देखना होगा. इसीलिए हम सोच विचार कर केस करने या फिर अपील दायर करने में से एक विकल्प चुनने का फ़ैसला लेना चाहते है."

न्यूज़ीलैंड और ऑस्ट्रेलिया दौरे पर कथित अनुशासनहीनता के चलते पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान यूनुस ख़ान और मोहम्मद यूसुफ़ पर अनिश्चितकाल के लिए पाबंदी लगा दी गई थी. जांच समिति की सिफ़ारिशों को मानते हुए बोर्ड ने शोएब मलिक, राणा नावेद पर भी एक साल का प्रतिबंध लगाया और शाहिद अफ़रीदी, कामरान अकमल और उमर अकमल पर जुर्माना किया.

अभी तक राणा नावेद और कामरान और उमर अकमल ने ही पीसीबी के फ़ैसले के ख़िलाफ़ अपील की है. क़य्यूम का कहना है कि बोर्ड के मुताबिक़ जांच समिति के सामने पेश होने वाले अधिकारियों और खिलाड़ियों के बयानों को वीडियोटेप किया गया है. क़य्यूम मानते हैं कि जिस आधार पर बोर्ड ने फ़ैसला लिया उसे वह नहीं समझ पाए हैं क्योंकि यूनुस के ख़िलाफ़ सबूतों को नहीं बताया गया है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: एम गोपालकृष्णन

संबंधित सामग्री