1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

उम्र से हारते फेडरर

करीब एक दशक की बादशाहत के बाद टेनिस जगत के सबसे कामयाब खिलाड़ी रोजर फेडरर अपनी बढ़ती उम्र के सामने घुटने टेकते दिख रहे हैं. फ्रेंच ओपन में चौथे दौर में ही उनकी रुकसती हो गई.

अगर इस बार वह फ्रांसिसी कोर्ट पर कामयाब होते, तो उनके खाते में रिकॉर्ड 42वां ग्रैंड स्लैम क्वार्टर फाइनल होता और लगातार 10वें साल रोलां गैरो की धरती पर आखिरी आठ में प्रवेश. लेकिन उन्हें उलझे बालों वाले लात्विया के एर्नेस्टे गुलबिस ने पांच सेटों में हरा कर सनसनी फैला दी.

फेडरर के पास इस हार का जवाब नहीं है, "हर मैच के बाद आप नहीं बता सकते कि आप क्यों हारे हैं. कभी आप ज्यादा निराश होते हैं, कभी कम." पेरिस में फेडरर कभी शानदार प्रदर्शन नहीं कर पाए हैं. वह सिर्फ एक बार फ्रांसीसी ओपन का खिताब जीते हैं. वह भी फाइनल में रफाएल नाडाल नहीं थे, तब.

फेडरर अब आगे की योजना बनाना चाहते हैं लेकिन इस दौरान अपने रिकॉर्ड पर नजर डालना कतई नहीं चाहेंगे. उन्होंने कुल 17 ग्रैंड स्लैम जीते हैं, जिनमें से 16 खिताब 2003 और 2010 के बीच आए हैं. उसके बाद उन्होंने सिर्फ एक बार विम्बलडन जीता है.

Ernests Gulbis

फेडरर को हराने वाले गुलबिस

इससे पहले अगर वह टूर्नामेंट से बाहर भी होते थे, तो आखिरी चक्रों में, जब उन्हें नाडाल या नोवाक जोकोविच या एंडे मरे हराया करते थे. लेकिन इस बीच वह कम प्रतिष्ठित खिलाड़ियों से भी हारने लगे हैं. पिछले साल उन्हें जो विल्फ्रिड सोंगा ने हरा दिया था, जबकि उससे पहले वह 116वीं वरीयता प्राप्त यूक्रेन के सर्गेई स्टाकहोव्स्की से भी हार चुके हैं.

पिछले साल स्टाकहोव्स्की से हारने के बाद वह अमेरिकी ओपन में टॉमी रोब्रेडो से हार गए. फ्रेंच ओपन में हार के बाद फेडरर अपनी पुरानी हारों पर भी विचार करने लगे, "स्टाकहोव्स्की से हार एक झटका जैसा था क्योंकि मैं इतने सालों के बाद विम्बलडन में दूसरे दौर में हारने की अपेक्षा नहीं कर रहा था. और अमेरिकी ओपन में भी हार मेरे लिए अजीब थी. वहां खेलने की स्थिति ठीक नहीं थी. लेकिन इस बार (फ्रेंच ओपन) तो मैं अच्छी फिटनेस में था."

इस हार के बाद यह लगातार सातवां ग्रैंड स्लैम है, जब फेडरर को खिताब नहीं मिल रहा है. छह साल में उन्होंने सिर्फ तीन ग्रैंड स्लैम जीते हैं. हालांकि उन्हें उम्मीद है कि उनके पसंदीदा विम्बलडन में उनका प्रदर्शन अच्छा रहेगा, "मैं विम्बलडन को लेकर बेहद उत्साहित हूं."

वह अगस्त में 33 साल के हो जाएंगे. इतिहास में विम्बलडन जीतने वाले सबसे ज्यादा उम्र के खिलाड़ी आर्थर एश थे. तब वह 31 साल के थे.

एजेए/ओएसजे (एएफपी)

संबंधित सामग्री