1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

उत्तर कोरिया से बोले ट्रंप: "हमें मत आजमाना"

दक्षिण कोरिया के दौरे पर अपने भाषण में अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने उत्तर कोरिया को फिर चेतावनी दी है. उन्होंने कहा कि उत्तर कोरिया का परमाणु कार्यक्रम उसे "गंभीर खतरे में" डाल रहा है.

अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि अमेरिका उत्तर कोरिया के साथ टकराव नहीं चाहता लेकिन टकराव होता है तो उससे भागेगा भी नहीं. उन्होंने कहा कि जब वह उत्तर कोरिया से कुछ कह रहे हैं तो वह सिर्फ अमेरिका और दक्षिण कोरिया की तरफ से नहीं बल्कि सभी सभ्य राष्ट्रों की तरफ से कह रहे हैं. उन्होंने उत्तर कोरिया से मुखातिब होते हुए कहा, "हमें कम करके मत आंकना, और हमें आजमाना मत. हम अपनी साझा सुरक्षा, साझा संपत्ति, और हमारी साझा आजादी की रक्षा करेंगे."

एक मशीन ने उत्तर कोरिया को ताकतवर बना दिया

ट्रंप अमेरिका को तीसरे विश्व युद्ध की ओर धकेल रहे हैं?

दक्षिण कोरिया की संसद नेशनल असेंबली में दिये भाषण में ट्रंप ने सभी देशों से अपील की कि वे उत्तर कोरिया और वहां के नेता जिम जोंग उन को अलग थलग करें और उन्हें किसी भी तरह की मदद और स्वीकार्यता न दी जाए.

हाल के महीनों में अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच तनाव लगातार बढ़ा है. अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों और निंदाओं के बावजूद उत्तर कोरिया की सरकार ने एक के बाद एक कई परमाणु और मिसाइल परीक्षण किये हैं. इसके बाद ट्रंप ने उत्तर कोरिया को "आग और क्रोध" की धमकी दी थी.

वीडियो देखें 00:47

क्यों रो पड़े उत्तर कोरियाई शासक किम जोंग उन

हालांकि सोल में दक्षिण कोरियाई संसद के सामने बोलते हुए ट्रंप ने उत्तर कोरिया पर सधा हुआ रुख अपनाया. उन्होंने कहा, "ईश्वर और इंसान के खिलाफ किये गये तुम्हारे हर अपराध के बावजूद हम तुम्हें कहीं ज्यादा बेहतर भविष्य की तरफ ले जाने वाले रास्ते की पेशकश करते हैं." हालांकि भविष्य के इस रास्ते की तरफ जाने के लिए उत्तर कोरिया को अपने परमाणु हथियारों को छोड़ना होगा जिससे वह लगातार इनकार करता है.

डर में जीते हैं उत्तर कोरिया से भागे लोग

उत्तर कोरिया को मिल रहा रूस का सहयोग

एशियाई देशों के 11 दिन के दौरे पर निकले ट्रंप का अलग पड़ाव बीजिंग होगा. दो दिन के दक्षिण कोरिया के दौरे से पहले वह जापान गये थे. ट्रंप ने चीन और रूस की तरफ इशारा करते हुए कहा कि वे उत्तर कोरिया से अपने व्यापार रिश्ते तोड़ें और उसके खिलाफ लगाये गये प्रतिबंधों पर पूरी तरह से अमल करें. बीजिंग में ट्रंप चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग से मिलेंगे जबकि वियतनाम में उनकी मुलाकात रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से होगी.

एके/एनआर (एपी, रॉयटर्स, डीपीए)

 

DW.COM

इससे जुड़े ऑडियो, वीडियो

संबंधित सामग्री