1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

उत्तर कोरिया पर एशियाई देशों से मशविरा करने में जुटे ट्रंप

उत्तर कोरिया पर बढ़ते तनाव के बीच अब अमेरिकी राष्ट्रपति ने एशियाई देशों से संपर्क साधा है. हालांकि यह अब भी साफ नहीं है कि क्या ट्रंप वाकई उत्तर कोरिया के खिलाफ सैन्य शक्ति का इस्तेमाल करेंगे.

अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने उत्तर कोरिया की ओर से पैदा हो रहे खतरे पर चर्चा करने के लिए थाईलैंड और सिंगापुर के नेताओं को वॉशिंगटन आमंत्रित किया है. समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक ट्रंप ने इन दोनों नेताओं से फोन पर बात की और आमंत्रण दिया. पिछले दिनों ही उत्तर कोरिया ने मिसाइल परीक्षण किया जो सफल नहीं रहा.

एक अमेरिकी अधिकारी के मुताबिक दोनों नेताओं से ट्रंप की टेलीफोन बातचीत में उत्तर कोरिया पर कूटनीतिक और आर्थिक दबाव बनाने को लेकर चर्चा की गई. व्हाइट हाउस के सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि ट्रंप ने दोनों देशों के साथ व्यापार और निवेश पर भी बातचीत की.

तकरीबन एक हफ्ते पहले ट्रंप ने चीन और जापान के नेताओं से भी उत्तर कोरिया के मसले पर बातचीत की थी. अपने हालिया इंटरव्यू में ट्रंप ने कहा था कि उत्तर कोरिया के साथ बड़ा विवाद संभव है. अमेरिकी विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन ने भी सभी विकल्पों पर गौर करने पर जोर दिया था.

व्हाइट हाउस के एक अधिकारी ने कहा है कि फोन पर बातचीत रणनीतिक रूप से बहुत अहम है. उन्होंने कहा कि उत्तर कोरिया के मसले पर हमें हर स्तर पर साझेदारों की आवश्यकता है. अधिकारी ने पुष्टि करते हुये कहा कि इस मसले पर ट्रंप, जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ लगातार बातचीत कर रहे हैं.

डुटेर्टे के साथ बेहतर होते संबंध

बीते दिनों ट्रंप ने फिलीपींस के राष्ट्रपति रोड्रिगो डुटेर्टे से भी बातचीत कर उन्हें व्हाइट हाउस आने का न्यौता दिया. फिलीपींस में एंटी-ड्रग अभियान को लेकर काफी समय से डुटेर्टे मानवाधिकार समूहों की आलोचना का शिकार रहे हैं. इस अभियान के दौरान तकरीबन 8000 लोगों के मारे जाने का अनुमान है.

एए/एके (रॉयटर्स)

DW.COM

संबंधित सामग्री