1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

उत्तर कोरिया ने कहा, अमेरिका से 'युद्ध होना तय है'

उत्तर कोरिया ने कहा है कि कोरियाई प्रायद्वीप में युद्ध होना तय है, बस देखने वाली बात यह है युद्ध कब और कैसे छिड़ेगा. साथ ही उत्तर कोरिया के विदेश मंत्रालय ने दक्षिण कोरिया और अमेरिका के साझा सैन्य अभ्यास की निंदा की है.

उत्तर कोरिया और अमेरिका की सेनाओं ने अब तक का सबसे बड़ा सैन्य सैन्य अभ्यास किया है. इस पर कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए उत्तर कोरिया ने कहा कि युद्ध को टालना अब संभव नहीं है. यह बात उत्तर कोरिया के एक अनाम अधिकारी के हवाले से सामने आयी है जिसने कहा कि सीआईए के निदेशक माइक पोम्पोए समेत आला अमेरिकी अधिकारियों के "युद्धोन्मादी बयानों" से अमेरिका के युद्ध को लेकर इरादों की पुष्टि होती है.

पोम्पोए ने रविवार कहा था कि उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन को पता ही नहीं है कि अंतरराष्ट्रीय और घरेलू मोर्चे पर उनकी स्थिति कितनी कमजोर है. उत्तर कोरियाई प्रवक्ता ने पोम्पोए पर आरोप लगाते हुए कहा कि "हमारा सुप्रीम नेतृत्व हमारे लोगों का दिल है और वह (पोम्पोए) इसकी बेतुकी आलोचना कर" उत्तर कोरिया को भड़का रहे हैं.

प्रवक्ता ने कहा, "अब सवाल यह बचता है कि युद्ध शुरू कब होगा. हम लड़ाई नहीं चाहते हैं लेकिन इससे भागेंगे भी नहीं. अगर अमेरिका ने हमारे धैर्य का गलत अनुमान लगाया और परमाणु युद्ध शुरू किया तो निश्चित रूप से हम अपने उस शक्तिशाली परमाणु बल से अमेरिका को नाको चने चबा देंगे जिसे हमने लगातार मजबूत बनाया है."

इससे पहले, हवाई युद्ध अभ्यास के दौरान अमेरिका ने अपने बी-बी1 सुपरसोनिक बमवर्षक विमान को दक्षिण कोरिया के ऊपर से उड़ाया. दक्षिण कोरिया की सेना ने अपने एक बयान में कहा, "युद्ध अभ्यास के जरिए दक्षिण कोरियाई और अमेरिकी वायु सेनाओं ने अपनी मजबूत इच्छाशक्ति और क्षमता दिखाया है कि वह परमाणु या मिसाइल हमला होने की स्थिति में उत्तर कोरिया को सबक दिखाने में सक्षम है."

पिछले हफ्ते व्हाइट हाउस के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार एचआर मैकमास्टर ने कहा कि उत्तर कोरिया के साथ युद्ध की संभावना "दिन प्रति दिन बढ़ती" जा रही है. अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप और उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन के बीच हाल के महीनों में अक्सर तू-तू मैं-मैं होती रहती हैं और दोनों तरफ से एक दूसरे के लिए अपमानजनक शब्दों का इस्तेमाल किया जाता है.

उधर उत्तर कोरिया के लगने वाले चीन के एक प्रांत में एक अखबार ने खास टिप्स प्रकाशित की हैं कि उसके पाठक युद्ध होने की स्थिति में खुद को कैसे सुरक्षित करें.

एके/एनआर (एपी, रॉयटर्स)

DW.COM

संबंधित सामग्री