1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

"उत्तर कोरिया के साथ बहुत ही बड़ा विवाद मुमकिन"

उत्तर कोरिया के साथ बेहद बड़ा विवाद हो सकता है. कोरियाई प्रायद्वीप में मौजूदा तनाव के बीच अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने बेहद कड़े लफ्जों में यह चेतावनी दी है.

डॉनल्ड ट्रंप के मुताबिक वह इस विवाद का कूटनीतिक हल पसंद करेंगे. लेकिन अमेरिकी राष्ट्रपति ने यह भी कहा कि उत्तर कोरिया के साथ बहुत ही बड़े विवाद की संभावना है. अपने ओवल दफ्तर में समाचार एजेंसी रॉयटर्स से बात करते हुए ट्रंप ने कहा, "इस बात की संभावना है कि अंत में हम उत्तर कोरिया के साथ बहुत ही बड़े विवाद में उलझ जाएं."

यह पहला मौका नहीं है जब उत्तर कोरिया के मिसाइल और परमाणु कार्यक्रम के कारण विवाद खड़ा हुआ है. जॉर्ज बुश और बराक ओबामा के कार्यकाल में भी ऐसे संकट सामने आए थे. तब भी उत्तर कोरिया का परमाणु और मिसाइल कार्यक्रम रोकने के लिए अमेरिका ने कई तरह के प्रतिबंध लगाए. संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद भी उत्तर कोरिया पर कई प्रतिबंध लगा चुकी है, लेकिन इन प्रतिबंधों के बावजूद किम जोंग उन का देश विवादित कार्यक्रमों को आगे बढ़ाता जा रहा है.

ट्रंप के सलाहकार उत्तर कोरिया पर और सख्त आर्थिक प्रतिबंध लगाने की तैयारी कर रहे हैं. वे सैन्य कार्रवाई के विकल्प को भी मद्देनजर रख रहे हैं. इसका संकेत देते हुए ट्रंप ने कहा, "हम कूटनीति से इसे हल करना पसंद करेंगे लेकिन यह बहुत मुश्किल है."

उत्तर कोरिया का पड़ोसी देश चीन दोनों पक्षों से संयम बरतने की अपील कर रहा है. ट्रंप ने उत्तर कोरिया को काबू में करने के लिए चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग की कोशिशों की तारीफ की. अप्रैल की शुरुआत में शी जिनपिंग ने प्लोरिडा में ट्रंप से मुलाकात की थी. ट्रंप के मुताबिक, "मुझे यकीन है कि वह बहुत कड़ी कोशिश कर रहे हैं. निश्चित तौर पर वह खलबली और मौतें नहीं देखना चाहते हैं. वह ये नहीं देखना चाहते हैं. वह एक बहुत अच्छे इंसान हैं और मैं उन्हें बहुत अच्छे से जान पाया हूं. वह चीन और चीन के लोगों से प्यार करते हैं. मैं जानता हूं कि वह कुछ करना चाहते हैं, लेकिन शायद मुमकिन है कि वह कुछ कर न सकें."

ट्रंप प्रशासन उत्तर कोरिया को "राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा और विदेश नीति की शीर्ष प्राथमिकता" करार दे चुका है. अमेरिका कोरियाई प्रायद्वीप में अपना विमानवाही युद्धपोत और परमाणु पनडुब्बी भेज चुका है. दक्षिण कोरिया में अमेरिकी मिसाइल डिफेंस सिस्टम (THAAD) लगाया जा रहा है. ट्रंप जानते हैं कि सैन्य कार्रवाई बड़े युद्ध को जन्म दे सकती है. जापान और दक्षिण कोरिया जैसे सहयोगी देशों में अमेरिका सेना की कई टुकड़ियां तैनात हैं. अगर उत्तर कोरिया ने जबावी हमला किया तो दक्षिण कोरिया और जापान को भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है. उत्तर कोरिया चेतावनी दे चुका है कि अगर उसके खिलाफ सेना इस्तेमाल की गई तो वह अमेरिका पर हमला करेगा. चीन ने भी अपनी सेना को तैयार रहने को कहा है.

ट्रंप से जब यह पूछा गया कि वह उत्तर कोरिया के शासक किम जोंग उन के बारे में क्या सोचते हैं तो अमेरिकी राष्ट्रपति ने जवाब दिया, "वह 27 साल के हैं. पिता की मौत के बाद उन्होंने सत्ता संभाली है. आप कुछ भी कह सकते हैं, लेकिन इस उम्र में यह सब इतना आसान नहीं होता. वह तार्किक हैं या नहीं, इस बारे में मेरी कोई धारणा नहीं है. मैं उम्मीद करता हूं कि वह तार्किक हैं."

(उत्तर कोरिया में आखिर कितना दम है)

ओएसजे/एके (एपी, रॉयटर्स)

DW.COM

संबंधित सामग्री