1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

उत्तर कोरिया-अमेरिका विवाद में कौन किसके साथ

उत्तर कोरिया और अमेरिका के बीच बढ़ते तनाव के बीच सभी देशों के अपना अपना पक्ष लेना शुरू कर दिया है. संभावित युद्ध को भांपते हुए सभी देश आने वाली किसी भी परिस्थितियों के लिए तैयार रहना चाहते हैं.

अमेरिका से आमने सामने की लड़ाई में हालांकि कुछ देशों को अब भी उत्तर कोरिया के प्रति अपना रुख साफ करना है लेकिन उत्तर कोरिया को कुछ शर्तों पर अपने पड़ोसी देश चीन से साथ मिल गया है.

इस मामले में चीन ने कहा है कि अगर अमेरिका दक्षिण कोरिया पर हमला करता है और उत्तरी कोरिया को उखाड़ फेंकने की कोशिश करता है या फिर कोरियाई प्रायद्वीप में राजनैतिक बदलाव करने की कोशिश करता है तो चीन उसे ऐसा करने से रोकेगा. स्थानीय अखबार में छपी इस रिपोर्ट के मुताबिक चीन ने यह साफ किया है कि अगर उत्तर कोरिया अमेरिकी जमीन पर पहले मिलाइस हमला करता है तो वह इस मामले पर निष्पक्ष रहेगा.

हालांकि, हफ्ते की शुरुआत में चीन के विदेश मंत्री ने उत्तरी कोरिया और अमेरिका दोनों से कहा था कि वे एक दूसरे को भड़काने की बजाए स्थिति को संभालें और एक दूसरे से बातचीत करें.

कौन है मजबूत साथी

दूसरे देश भी इस बात को साफ कर रहे हैं कि वे किस ओर हैं. ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री टर्नबुल ने मेलबर्न रेडियो से शुक्रवार को कहा कि अमेरिका के पास ऑस्ट्रेलिया से ज्यादा मजबूत कोई सहयोगी नहीं है. अगर उत्तर कोरिया अमेरिका पर कोई हमला करता है तो सुरक्षा संधि के तहत ऑस्ट्रेलिया अमेरिका का साथ देगा. जापान के रक्षा मंत्री ने भी कहा कि टोक्यो प्योंगयांग की तरफ से ऐसे उकसावों को बिल्कुल बर्दाश्त नहीं करेगा.

वैसे तो अमेरिका और जर्मनी एक दूसरे के सहयोगी देश हैं लेकिन जर्मनी ने अभी इस बात की घोषणा नहीं की है कि युद्ध कि स्थिति में वह अमेरिका का साथ देगा. नाटो के घोषणा पत्र के मुताबिक किसी भी सदस्य देश पर हमला सभी सदस्य देशों पर हमला माना जायेगा.  

ट्रंप की चेतावनी

अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने चेतावनी देते हुए कहा कि उत्तर कोरिया "ऐसी आग और ऐसे प्रकोप का सामना करेगा जो दुनिया ने पहले कभी नहीं देखा है." अमेरिकी राष्ट्रपति की इस धमकी के कुछ देर बाद उत्तर कोरिया की सेना ने जवाब दिया. उत्तर कोरिया के सरकारी टेलिविजन पर एक जनरल ने कहा कि सेना गुआम पर मध्यम और लंबी दूरी के रॉकेटों से हमला करने की तैयारी कर रही है.

प्रशांत महासागर का गुआम द्वीप अमेरिकी इलाका है. फिलीपींस और हवाई के बीच मौजूद गुआम द्वीपपर  अमेरिका का सैनिक अड्डा है, जहां अहम बमवर्षक विमान तैनात हैं.

ल्यूइस सैंर्डस/एसएस

DW.COM

संबंधित सामग्री