1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

उत्तरी इस्राएल में आग, 41 मरे

उत्तरी इस्राएल में फैली भयानक आग में कम से कम 41 लोग मारे गए हैं, जबकि आग बुझाने में इस्राएल की मदद के लिए अंतरराष्ट्रीय अग्निशमन दल पहुंच रहे हैं. इस्राएल के 62 सालों के इतिहास में आग लगने की यह सबसे गंभीर घटना है.

default

ताजा समाचारों के अनुसार हैफा के पास जंगल में लगी आग में 41 लोग मारे गए हैं लेकिन 41 में से अभी तक सिर्फ 11 लाशों की शिनाख्त हो पाई है. बहुत से लोग लापता बताए जा रहे हैं जबकि कम से कम 17 लोग आग से घायल हो गए हैं जिनमें से दो मौत से जूझ रहे हैं. मरने वाले 36 लोग एक जेल के कर्मचारी बताए जा रहे हैं जो कैदियों को आग से बचाकर सुरक्षित स्थान पर पहुंचाने के लिए एक बस में सफर कर रहे थे.

लगभग 400 दमकल कर्मचारी जंगल में फैली आग को बुझाने की कोशिश में लगे हैं. जंगली आग का सामना करने के लिए पर्याप्त उपकरण न होने के कारण प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतान्याहू ने दूसरे देशों से सहायता मांगी है.

Brandkatastrophe in Israel NO FLASH

शुक्रवार को तीन अग्निशमन विमानों में से पहला इस्राएल पहुंच गया है. इस्राएली विदेश मंत्रालय को साथी देशों से कम से कम 17 अग्निशमन विमानों और हेलिकॉप्टरों के आने की उम्मीद है. इनमें से दो तुर्की भेज रहा है. राष्ट्रपति बराक ओबामा ने भी इस्राएल को मदद का आश्वासन दिया है.

तेज हवाओं के कारण आग की लपटें दक्षिणी हैफा तक पहुंच गई हैं. ढ़ाई लाख से अधिक की आबादी वाला हैफा इस्राएल का तीसरा सबसे बड़ा शहर है. अधिकारियों ने देनिया मोहल्ले से लोगों को हटाना शुरू कर दिया है. अब तक 12 हजार लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/महेश झा

संपादन: एन रंजन

DW.COM

WWW-Links