1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

उड़ने वाले ढाई सौ साल पुराने हंस से गाने वाले रोबोट तक

प्राचीन इतिहास और निकट भविष्य का यह अनोखा मिलन एक ऐसी प्रदर्शनी में दर्शकों का स्वागत करता है जिसमें इंसान के 500 साल को देखा जा सकता है.

लंदन के साइंस म्यूजियम में एक अनोखा मिलन देखा जा रहा है. एक तरफ तो गाना गाने वाला रोबोट रखा है और दूसरी तरफ 244 साल पुराना सिल्वर के हंस का मॉडल.

इस प्रदर्शनी का नाम रोबोट्स है. इस प्रदर्शनी के बारे में आयोजक कहते हैं कि रोबोट्स का इतना विशाल और अनूठा प्रदर्शन अब तक कभी नहीं हुआ. यहां 100 से ज्यादा मॉडल प्रदर्शित किये जा रहे हैं

सबसे चर्चित आकर्षण ब्रिटेन में बना रोबोट थेस्पियन है. मानव आकार का यह रोबोट पूरी प्रदर्शनी में इधर उधर घूमता रहेगा और बोलने की एक्सरसाइज करेगा. हर 20 मिनट पर यह दर्शकों के सामने अपनी नाटकीय प्रतिभा का प्रदर्शन करेगा.

देखिए, कितनी नौकरियां रोबोट को जाएंगे

लोगों की सिल्वर स्वान में भी खासी दिलचस्पी है. 10वीं सदी में इसे जॉन जोसेफ मर्लिन ने बनाया था. वही मर्लिन जिन्होंने रोलर स्केट्स का आविष्कार किया था. पहली बार सिल्वर स्वान को 1867 में पैरिस में एक प्रदर्शनी में पेश किया गया जहां इसे अमेरिकी लेखक मार्क ट्वेन ने देखा और फिर इसका जिक्र अपने उपन्यास द इनोसेंट्स अब्रॉड में विस्तार से किया है.

प्रदर्शनी में टर्मिनेटर साल्वेशन फिल्म में इस्तेमाल किये गए टी-800 रोबोटा का असली कंकाल भी है और होंडा के मशहूर आसिमो और इंखा भी. इंखा एक ऐसा रोबोट है जो प्रतिक्रिया देता है और दर्शकों को फैशन के बारे में अनोखी लेकिन मजेदार सलाहें दे सकता है.

पहचानिए, इंसान है या रोबोट

इस प्रदर्शनी के दौरान चर्चा का विषय यह है कि इंसान वैसी दुनिया से कितनी दूर है जबकि सारा काम रोबोट करेंगे. इटैलियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के उप निदेशक (साइंस) प्रोफेसर जॉर्जियो मेटा कहते हैं, "मैं कह सकता हूं अभी वह दुनिया बहुत बहुत दूर है. फिलहाल हम जो चीजें बना रहे हैं वे कुछ खास काम करने के लिए ही हैं और कुछ खास समस्याएं ही सुलझा सकती हैं. वे अभी कुछ और नहीं सीख सकतीं और अपने आप एक काम छोड़ दूसरा काम करना शुरू नहीं कर सकतीं."

8 फरवरी से शुरू हुई यह प्रदर्शनी रोबोट्स 3 सितंबर तक जारी रहेगी. हालांकि सिल्वर स्वान प्रदर्शनी में सिर्फ छह हफ्ते रहेगा.

वीके/एके (रॉयटर्स)

DW.COM

संबंधित सामग्री