1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

ईरान पर प्रतिबंधों को अमल में लाने की तैयारी

परमाणु कार्यक्रम के मुद्दे पर ईरान के खिलाफ नए प्रतिबंधों का मसौदा संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के 15 सदस्य देशों में वितरित किया जा रहा है. अमेरिका ने घोषणा की है कि पांच स्थायी सदस्य कड़े प्रतिबंधों पर राजी हो गए हैं.

default

सोमवार को ईरान ने तुर्की के साथ परमाणु सामग्री के बदले संवर्धित यूरेनियम हासिल करने पर समझौता किया है. लेकिन उस समझौते के बावजूद ईरान के खिलाफ प्रतिबंधों को अंतिम रूप दिए जाने की तैयारी चल रही है. अमेरिका का कहना है कि ईरान नए समझौते पर सहमति बनाकर पाबंदियों को टालने की कोशिश कर रहा है.

नए प्रतिबंधों के अमल में आने के बाद मालवाहक जहाजों की जांच और बैकिंग कार्यप्रणाली पर कड़ा नियंत्रण लगाया जाना संभव हो पाएगा. ईरान को टैंक, युद्धक

UN-Sicherheitsrat Iran-Sanktionen

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद

विमान, युद्धपोत और अन्य भारी हथियार नहीं बेचे जाएंगे. ईरान के बैंकों के वित्तीय लेनदेन पर नजर और पैनी की जाएगी.

मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक प्रतिबंधों के मसौदे को पांच स्थायी सदस्य देशों का समर्थन मिल चुका है और 10 अस्थायी सदस्य देश इस पर बहस कर रहे हैं. अमेरिकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने कहा है कि रूस और चीन के सहयोग से ईरान के खिलाफ कड़े प्रतिबंधों के मसौदे पर सहमति बन गई है. ईरान पर तीन बार प्रतिबंध लगाए जा चुके हैं और यह प्रतिबंधों का चौथा दौर होगा.

तुर्की और ब्राजील की मध्यस्थता से ईरान के साथ हुए समझौते के मुताबिक ईरान कम संवर्धित यूरेनियम को तुर्की भेजने के लिए राजी हो गया है जिसके बदले उसे रिसर्च रिएक्टर के लिए ईंधन मिल सकेगा. इस डील को स्वॉप डील (अदला बदली समझौता) का नाम दिया गया है. चीन ने शुरुआत में स्वॉप डील के प्रति अपना समर्थन जाहिर किया लेकिन अब वह परमाणु प्रतिबंधों के पक्ष में बात कर रहा है.

पश्चिमी देशों को शक है कि ईरान अपने परमाणु कार्यक्रम की आड़ में परमाणु हथियार विकसित करने की कोशिशों में जुटा है लेकिन ईरान पुरजोर ढंग से इस बात को खारिज करता रहा है. ईरान का कहना है कि उसका कार्यक्रम शांतिपूर्ण उद्देश्य के लिए है जिसका उसे पूरा हक है.

Erdogan Lula da Silva und Ahmadinedschad in Teheran

तुर्की, ईरान और ब्राजील का समझौता

अमेरिकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने दोहराया है कि तुर्की, ब्राजील और ईरान के त्रिपक्षीय समझौते से जुड़े कई सवाल अनुत्तरित हैं हालांकि उन्होंने तुर्की और ब्राजील के प्रयास की सराहना की है. समझौते होने पर भी ईरान ने कहा है कि वह यूरेनियम संवर्धन जारी रखेगा और अमेरिका के मुताबिक उसके लिए अहम मुद्दा यही है कि ईरान इससे पीछे नहीं हट रहा है.

नए प्रतिबंधों के मसौदे पर ईरान की ओर से अभी कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है और यह भी स्पष्ट नहीं है कि इस मसौदे का सोमवार को हुए समझौते पर क्या असर होगा. इस समझौते के अन्तर्गत ईरान 1,200 किलोग्राम कम संवर्धित यूरेनियम को तुर्की भेजेगा और इसके बदले उसे तेहरान रिसर्च रिएक्टर के लिए ईंधन मिलेगा.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: ए कुमार