1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

इस क्रिकेटर के नाम है वनडे का पहला दोहरा शतक

एकदिवसीय क्रिकेट के इतिहास में पहला दोहरा शतक बनाने का कीर्तिमान ऑस्ट्रेलियाई महिला खिलाड़ी बेलिंडा क्लार्क के नाम है. सितंबर 1970 को ऑस्ट्रेलिया के न्यूकासेल में जन्मी क्लार्क ने अपनी टीम को विश्व कप भी जिताया.

बेलिंडा क्लार्क ने डेनमार्क के खिलाफ खेलते हुए वन डे क्रिकेट में इतिहास रचा. वे 229 रन बनाकर नाबाद रहीं. दुनिया भर में वनडे में दोहरा शतक बनाने वालों का जिक्र आते ही सबसे पहले लोग बेहतरीन भारतीय बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर को याद करते हैं. महिला क्रिकेट के बारे में ज्यादा जानकारी ना होना और उसे लोकप्रिय बनाने की पर्याप्त कोशिशें ना होना इसका कारण हो सकता है. लेकिन इतिहास गवाह है कि बेलिंडा ने मुंबई में हुए 1997-98 के महिला विश्व कप मुकाबले के 18वें मैच में केवल 155 गेंदों में 229 रन बनाए थे. ध्यान देने वाली बात ये भी है कि इतना बड़ा स्कोर खड़ा करने में क्लार्क ने केवल एक छक्का मारा.

टेस्ट मैचों में भी क्लार्क का औसत 50 से ऊपर है. 2005 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से रिटायर होने के बाद से क्लार्क ने क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया और आईसीसी विमेंस कमेटी में कई प्रशासनिक भूमिकाएं निभाई हैं और खेल के विकास में अपना योगदान दे रही हैं. 2008 के इस वीडियो में अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर वे ऑस्ट्रेलियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट में महिलाओं को समान अधिकार दिए जाने के विषय पर अपने विचार रखती दिख रही हैं.

बेलिंडा क्लार्क की मां मार्गरेट खुद एक टेनिस खिलाड़ी थीं और दो बार उन्होंने न्यूकासेल ओपन लेडीज सिंगल खिताब जीता था. पिता एलन अंतर-जिला स्तर के क्रिकेटर थे. बचपन में जूनियर टीमों में टेनिस और हॉकी खेलने वाली बेलिंडा ने क्रिकेट में अपना करियर बनाया. विज्डन क्रिकेटर ऑफ द ईयर चुने जाने के अलावा क्लार्क उन पांच महिला क्रिकेटरों में शामिल हैं, जिन्हें 2011 में आईसीसी के हॉल ऑफ फेम में शामिल किया गया.

DW.COM