1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

इस्लामी कट्टरपंथियों पर जर्मन पुलिस ने कसा शिकंजा

जर्मनी में एक 24 वर्षीय सीरियाई शरणार्थी को आतंकवाद के संदेह में गिरफ्तार किया गया है. इस्लामिक स्टेट को संदिग्ध रूप से समर्थन देने वाले तीन अन्य लोगों के घर पर छापे मारे गए हैं. इन मामलों में कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है.

नॉर्थराइन वेस्टफेलिया प्रांत के गृह मंत्रालय के अनुसार औद्योगिक शहर लुडविषहाफेन के निकट मुटरश्टाट में हुई गिरफ्तारी नॉर्थराइन वेस्टफेलिया के डुइसबुर्ग शहर की पुलिस की जांच के बाद राइनलैंड पलैटिनेट पुलिस के सहयोग से पिछले शुक्रवार को हुई. अभियुक्त पर जर्मनी में हमले की योजना बनाने का संदेह है. संदिग्ध को प्रांत की एक जेल से मिले सुराग के बाद लंबे समय से ऑबजर्व किया जा रहा था. इसमें 26 अगस्त को जर्मनी की फुटबॉल लीग शुरू होने के समय खतरे की बात कही गई थी.

प्रांतीय गृह मंत्रालय के अनुसार संदिग्ध जांचकर्ताओं की निगाहों में इसलिए आया कि एक गवाह ने इस्लामी कट्टरपंथ प्रेरित हमले की योजना का सुराग दिया था. अभियोक्ता कार्यालय ने कोर्ट से संदिग्ध की हिरासत की मांग की और वह अभी जांचकर्ताओं की हिरासत में है. आतंकवाद के इस तरह के मामलों के लिए आम तौर पर संघीय अभियोक्ता कार्यालय जिम्मेदार है, लेकिन ये मामला अभी भी डुइसबुर्ग के अभियोक्ता कार्यालय के पास है.

नॉर्थराइन वेस्टफेलिया के गृह मंत्री राल्फ येगर ने पड़ोसी प्रांत के सहयोग से हुई गिरफ्तारी पर टिप्पणी करते हुए कहा, "गिरफ्तारी दिखाती है कि इस्लामी आतंकवाद के खिलाफ संघर्ष में सुरक्षा अधिकारी सफल सहयोग कर रहे हैं. हम हर सूचना को गंभीरता से लेते हैं और उसकी जांच करते हैं." राइनलैंड पलैटिनेट के गृह मंत्री ने भी गिरफ्तारी के दौरान दोनों प्रांतों की पुलिस के बीच हुए सहयोग की तारीफ की है.

कट्टरपंथियों पर दबाव

बुधवार को नॉर्थराइन वेस्टफेलिया और लोवर सेक्सनी की पुलिस ने आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट के तीन संदिग्ध मददगारों के घर पर छापे मारे. ये छापे संघीय अभियोक्ता के निर्देश पर मारे गए. संघीय अभियोक्ता कार्यालय की प्रवक्ता के अनुसार अभियुक्तों पर जनवरी 2015 से जुलाई 2015 तक आईएस के लिए सदस्य और समर्थक जुटाने का आरोप है. उनमें से एक पर आतंकी संगठन की धन की और लॉजिस्टिक मदद का भी आरोप है. संघीय अभियोक्ता कार्यालय के अनुसार किसी की गिरफ्तारी नहीं की गई है. डॉर्टमुंड, डुइसबुर्ग और हिल्डेसहाइम की पुलिस ने छापों की पुष्टि की है.

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार पुलिस ने एक ट्रेवल एजेंसी पर भी छापा मारा. इंटरनेट पोर्टल डेअ वेस्टन के अनुसार ट्रेवल एजेंसी के मालिक पर दो किशोरों के संपर्क में होने का संदेह है जिनपर एसेन शहर में एक सिख गुरुद्वारे पर हमला करने का संदेह है. लेकिन उसने इन आरोपों से इंकार किया है.

एमजे/आईबी (रॉयटर्स, डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री