1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

इस्लामिक स्टेट ने किया एक और अपहरण

फ्रांस सरकार ने माना है कि अल्जीरिया में इस्लामिक स्टेट ने एक फ्रांसीसी व्यक्ति का अपहरण किया है. अपहरणकर्ताओं ने वीडियो जारी कर फ्रांस को आईएस पर कार्रवाही बंद करने को कहा है.

फ्रांस के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता आलेक्सांद्रे जॉर्जिनी ने बयान में कहा, "रविवार को अल्जीरिया के तिजी ओजू इलाके में फ्रांस के एक निवासी का अपहरण कर लिया गया है. यह व्यक्ति वहां छुट्टी मनाने गया था." मंत्रालय की इस घोषणा के बाद इंटरनेट पर अपहृत व्यक्ति का वीडियो रिलीज हुआ. विदेश मंत्री लॉराँ फाबियस ने वीडियो की पुष्टि करते हुए कहा है कि वीडियो में दिखने वाला व्यक्ति फ्रांस का निवासी ऐर्वे गोर्दल है. न्यूयॉर्क में पत्रकारों से बात करते हुए विदेश मंत्री ने इसे "बेहद नाजुक" स्थिति बताते हुए कहा, "दुर्भाग्यवश हमें इस वीडियो की पुष्टि करनी पड़ रही है."

DW.COM

वीडियो में अपहृत व्यक्ति अपना नाम, उम्र और जन्म तिथि बताता हुआ नजर आ रहा है. उसने बताया कि वह 20 सितंबर को अल्जीरिया पहुंचा और अगले ही दिन उसका अपहरण कर लिया गया. अल्जीरिया के एक कट्टरपंथी संगठन जुंद अल खिलीफा ने इस वीडियो की जिम्मेदारी ली है. संगठन खुद को इस्लामिक स्टेट की शाखा बताता है.

वीडियो में ऐर्वे गोर्दल को फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रांसोआ ओलांद से विनती करते हुए देखा जा सकता है, "मैं जुंद अल खिलीफा के हाथों में हूं. यह एक अल्जीरियाई संगठन है. ये लोग मुझसे मांग कर रहे हैं कि मैं आपसे कहूं कि आप इराक में हस्तक्षेप ना करें. इन लोगों ने मुझे बंदी बनाया हुआ है और राष्ट्रपति जी, मैं आपसे विनती करता हूं कि मुझे इस बुरी स्थिति से निकालने की हर संभव कोशिश करें. इसके लिए मैं आपका शुक्रगुजार रहूंगा." वीडियो में यह व्यक्ति घुटनों के बल जमीन पर बैठा है और उसके आसपास दो हथियारबंद नकाबपोश खड़े हैं.

फ्रांस ने शुक्रवार को इराक में इस्लामिक स्टेट पर हवाई हमला किया. इस बीच अमेरिका ने सीरिया पर भी हमला कर दिया है. फ्रांस ने साफ किया है कि फिलहाल सीरिया पर हमला करने की उसकी कोई योजना नहीं है. आईएस ने अपने समर्थकों से कहा है कि जो देश संगठन के खिलाफ कदम उठा रहे हैं, वहां के देशवासियों पर हमला करने के लिए तैयार रहें. इस बयान में फ्रांस को खास तौर पर धमकी दी गयी है.

वहीं फ्रांस ने इसके जवाब में कहा है कि इन धमकियों से उसकी नीतियों पर कोई असर नहीं पड़ेगा. गृह मंत्री बेर्नार्ड काजानेयोव ने कहा, "फ्रांस को किसी बात का डर नहीं है क्योंकि फ्रांस इन धमकियों के जवाब के लिए तैयार है." इराक और सीरिया के कई हिस्सों पर आईएस ने कब्जा जमाया हुआ है. वहीं अल्जीरिया में इसके अलावा अल कायदा की एक शाखा भी सक्रिय है.

आईबी/एएम (एपी, रॉयटर्स)

DW.COM

संबंधित सामग्री