1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

इस्राएल में मिस्र से उम्मीद

मिस्र के प्रधानमंत्री हिशमान कांदिल ने कहा है कि वह गजा में संघर्ष विराम के लिए कोशिशों को तेज करेंगे. साथ ही उन्होंने विश्व के नेताओं से अपील की है कि वे गजा में इस्राएल के हमले को रोकें.

प्रधानमंत्री कांदिल के बयान ऐसे समय आए हैं जब इस्राएल ने कहा है कि वह गजा पट्टी में चार साल में पहली बार जमीनी आक्रमण की तैयारी कर रहे हैं और उसकी सेना ने 16 हजार अतिरिक्त सैनिकों को बुलाना शुरू कर दिया है.

इधर जर्मनी के विदेश मंत्री गीडो वेस्टरवेले ने जर्मन रेडियो डॉयचलांडफुंक में फ्रीडरिष मॉयरर के साथ बातचीत में कहा कि इस हमले के लिए सिर्फ हमास जिम्मेदार है." इस विवाद का कारण गजा से हमास के रॉकेट हमले हैं. अपनी रक्षा करना इस्राएल का अधिकार है और अपने नागरिकों की रक्षा भी. लेकिन साथ ही इस विवाद को रोकने के लिए जरूरी कदम भी उठाए जाने चाहिए ताकि नागरिकों की जान को खतरा नहीं हो. 

  

उधर मिस्र के प्रधानमंत्री की यात्रा के दौरान किया गया संघर्ष विराम का वादा कुछ ही समय में धराशायी हो गया जब हमास ने इस्राएल में रॉकेट हमले किए. उधर इस्राएली अधिकारियों का कहना है कि उत्तरी गजा में इस्राएल के हवाई हमले से गजा में दो लोग मारे गए.

उधर गजा सिटी में दौरे के बाद मिस्र के प्रधानमंत्री ने कहा, "जो आज मैंने गजा के अस्पताल में देखा है उसे चुप रह कर नहीं देखा जा सकता. पूरी दुनिया को संघर्ष रोकने की जिम्मेदारी लेनी होगी."

मिस्र के राष्ट्रपति मोहम्मद मुर्सी ने चेतावनी दी कि मिस्र गजा पट्टी में इस्राएल के हमले को स्वीकार नहीं करेगा. इस हिंसक विवाद की शुरुआत बुधवार दोपहर हुई जब इस्राएल ने हमास के वरिष्ठ सैन्य अधिकारी अहमद जब्बारी को रॉकेट हमले में मार दिया.

यूरोपीय संघ ने हमास के इस्राएल पर रॉकेट हमलों की निंदा की है और इस्राएल के नेताओं को कहा है कि वह जवाबी कार्रवाई में संयम बरतें. यूरोपीय संघ की विदेश नीति प्रभारी कैथरीन एश्टन ने कहा है, "गजा में हमास या दूसरे गुटों के हाल ही में शुरू हुए रॉकेट हमलों को कोई भी सरकार स्वीकार नहीं कर सकती. इन्हें रोका जाना चाहिए. इस्राएल को अपने नागरिकों की इस तरह के हमलों से रक्षा करने का पूरा अधिकार है. मैं अपील करती हूं कि इस्राएल जरूरत भर कार्रवाई करे. "

इस्राएल के उप प्रधानमंत्री मोशे यालोन कहते हैं, " चाहे मिस्र हो या कोई और देश उनके जरिए हम यही चाहते हैं हमास संकेतों को समझे और लंबे समय के युद्धविराम का वादा करे. हम शांत दक्षिण और मजबूत हल चाहते हैं. मिस्र संदेश देने का माध्यम रहा है. हमास हमेशा संघर्ष विराम का अनुरोध करता है. हम मिस्र के रक्षा मंत्रालय से बातचीत कर रहे हैं." 

अमेरिका के रक्षा मंत्री लियोन पनेटा ने वॉयस ऑफ अमेरिका को एक इंटरव्यू में कहा, "इस्राएल जो कर रहा है, उसका कारण मैं समझता हूं. वह ये है कि वह गजा के मिसाइलों का शिकार हो रहा है." 

मिस्र के राष्ट्रपति मुर्सी (मुस्लिम ब्रदरहुड) को हमास संरक्षक के रूप में देखता है. उन पर कड़ी कार्रवाई का दबाव भी है. लेकिन मिस्र को अमेरिका से हर साल 1.3 अरब डॉलर की सैन्य सहायता भी मिलती है. और बीमार अर्थव्यवस्था को बचाने के लिए भी वह अमेरिका से उम्मीद रखता है. मुर्सी को यह भी दिखाना है कि उनकी नीतियां अमेरिका का समर्थन करने वाले हुस्नी मुबारक से अलग हैं और अमेरिका के हित का भी ध्यान रखना है. 

उधर हमास के नेता इस्माइल हानिया ने गुरुवार को मिस्र से अपील की कि वह फलिस्तिनीयों की और मदद करें.

एएम/एनआर (एएफपी, रॉयटर्स, डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री