1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

इस्राएल का आरोप, सीरिया के पास अभी भी रासायनिक हथियार

रासायनिक हथियार रोधी संस्था ओपीसीडब्ल्यू ने कहा है कि 4 अप्रैल को सीरिया के इदलिब में हुए हमले में सारीन या वैसा ही कोई प्रतिबंधित जहरीला पदार्थ इस्तेमाल हुआ. इस हमले में दर्जनों बच्चों समेत 90 लोगों की जान चली गयी थी.

ऑर्गेनाइजेशन फॉर द प्रोहिबिशन ऑफ केमिकल वेपन्स (OPCW) की जांच की रिपोर्ट इसके पहले तुर्क और ब्रिटिश प्रयोगशालाओं से मिले नतीजों की ही तरह रायासनिक हमले की पुष्टि करती है. संस्था के महासचिव अहमत उजुमकु ने कहा कि विश्लेषण के नतीजों से "पता चलता है कि सारीन या सारीन जैसा ही कोई पदार्थ इस्तेमाल किया गया."

इनकी जांच का आधार हमले के पीड़ितों की ऑटोप्सी के दौरान इकट्ठा किये गये बायो-मेडिकल सैंपल थे. इन सैंपलों का विश्लेषण OPCW से जुड़ी दो अलग अलग प्रयोगशालाओं में कराया गया. इसके नतीजों के बारे में बयान जारी करते हुए इस संस्था ने कहा, "बायो-मेडिकल सैंपल ऐसे सात लोगों से इकट्ठे किये गये, जो अस्पतालों में अपना इलाज करवा रहे थे."

उधर इस्राएल ने आरोप लगाया है कि सीरिया के पास अब भी तीन टन के आसपास रासायनिक हथियार हैं. इस्राएल के रक्षा अधिकारियों ने सीरियाई राष्ट्रपति बशर अल असद के हथियारों की शक्ति का खुफिया मूल्यांकन कर यह जानकारी दी. इस्राएली सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि उनकी खुफिया जांच से पता चला है कि सीरियाई सेना के कमांडरों ने ही ऐसे हमले का आदेश दिया था और इसकी जानकारी असद को भी थी. इस बात की पुष्टि दो अन्य इस्राएली अधिकारियों ने भी की. लेकिन सभी ने इस्राएली सेना के नियमों के अनुसार अपनी पहचान को गोपनीय रखते हुए मीडिया को यह जानकारी दी.

इस्राएल के साथ साथ अमेरिका और अंतरराष्ट्रीय समुदाय के ज्यादातर सदस्य जहरीले गैस हमले के लिए असद की सेनाओं को ही दोषी मानते हैं. लेकिन असद ने हमले के पीछे अपना हाथ होने से इंकार किया है और इसे विरोधियों की उन्हें बदनाम करने की कोशिश बताया है. असद के प्रमुख सहयोगी देश रूस का कहना है कि सीरियाई सरकारी सेना के हवाई हमले का निशाना विद्रोहियों की रासायनिक हथियारों की फैक्ट्री थी, जिसके कारण यह दुर्घटना घटी.

आरपी/एमजे (रॉयटर्स, एपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री