1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

इस्राएली एजेन्ट का जर्मनी में प्रत्यर्पण होगा

पोलैंड की एक अदालत ने बुधवार को फैसला दिया है कि इस्राएली मोसाद एजेन्ट माने जा रहे ब्रोडोस्की का जर्मनी प्रत्यर्पण होगा और उस पर वहां मुकदमा चलाया जा सकेगा.

default

महबूब अल मबहूह की हत्या के संदेह में ब्रोडोस्की को पकड़ा गया

इस्राएल ने तो कह दिया था कि यूरी ब्रोडोस्की घर जा सकता है लेकिन पोलैंड की एक कोर्ट ने इस्राएल के मोसाद एजेन्ट माने जाने वाले ब्रोडोस्की को जर्मनी प्रत्यर्पित करने का फैसला सुनाया है. वारसा की अदालत ने कहा, "अदालत ने फैसला लिया है कि यूरी ब्रोडोस्की को अदालती कार्रवाई के लिए जर्मन अधिकारियों को सौंपा जाएगा. कोर्ट ने इस बात का फैसला नहीं लिया है कि ब्रोडोस्की ने वो अपराध किया है या नहीं जिस मामले में उसकी जांच की जा रही है. कोर्ट ने सिर्फ यह जांचा है कि क्या प्रत्यर्पण के आवेदन के लिए ज़रूरी औपचारिकताएं पूरी की गई हैं या नहीं. इस बात की भी जांच की गई कि क्या आरोपी को सही पहचाना गया है."

Personalausweis Michael Bodenheimer

मबहूह की हत्या में जर्मन सहित कई देशों के जाली पासपोर्टों का इस्तेमाल हुआ

अदालत ने कहा है कि इस फैसले के खिलाफ अपील करने के लिए ब्रोडोस्की के पास तीन दिन का समय है लेकिन संदिग्ध आरोपी के वकील ने कहा है कि अपील करेंगे या नहीं इस बारे में पता नहीं है. ब्रोडोस्की को 4 जून को वारसा के एयरपोर्ट पर गलत तरीके से जर्मन पासपोर्ट लेने के सिलसिले में गिरफ्तार किया गया था. जर्मनी ने उसके खिलाफ अंतरराष्ट्रीय वारंट कई सप्ताह पहले जारी कर दिया था.

ब्रोडेस्की इस्राएली नागरिक है. बताया जाता है कि उसने महमूद अल माबहुह की हत्या के लिए जाली जर्मन पासपोर्ट बनाने में मदद की. इस्राएल ने इस प्रत्यर्पण का विरोध किया है और कहा है कि संदिग्ध को पहले इस्राएली अदालत में पेश किया जाना चाहिए.

दूसरे पश्चिमी देशों के साथ जर्मनी इस बात पर खासा नाराज़ था कि उसका पासपोर्ट संदिग्ध मोसाद टीम ने हमास के सह संस्थापर अल मबहूह की हत्या में इस्माल किया गया. ब्रिटेन, फ्रांस, जर्मनी, आयरलैंड ऑस्ट्रिया के 26 जाली पासपोर्ट इस हत्या के सिलसिले में इस्तेमाल किए गए थे. मबहूह की 19 जनवरी को दुबई में एक होटल में हत्या कर दी गई थी.

रिपोर्ट: एजेंसियां/आभा एम

संपादन: एस गौड़