इब्राहिमोविच और रोनाल्डो में कोई एक | खेल | DW | 22.10.2013
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

इब्राहिमोविच और रोनाल्डो में कोई एक

वर्ल्ड कप क्वालिफाइंग मुकाबलों में यूरोप के चार मुकाबलों के लिए ड्रॉ निकाला गया लेकिन स्वीडन और पुर्तगाल का ड्रॉ सब पर भारी पड़ गया है. हालात ऐसे हैं कि इब्राहिमोविच और रोनाल्डो में कोई एक ही ब्राजील जाएगा.

सोमवार को फीफा वर्ल्ड कप क्वालिफाइंग में पहला ड्रॉ पुर्तगाल और स्वीडन के बीच निकला. दोनों के बीच दो लेग के मुकाबले 15 और 19 नवंबर को होंगे. इस ड्रॉ का मतलब है कि दुनिया के दो बेहतरीन फुटबॉलरों ज्लाटान इब्राहिमोविच और क्रिस्टियानो रोनाल्डो में किसी एक को ही ब्राजील का टिकट मिलेगा. फ्रांस की भिड़ंत यूक्रेन से हो रही है जबकि क्रोएशिया आईसलैंड से भिड़ेगा और ग्रीस रोमानिया का सामना करेगा.

स्वीडन के कोच एरिक हैमरन ने कहा, "रोनाल्डो और इब्राहिमोविच जैसे विश्व स्तर के खिलाड़ी खेल को बदलने के लिए कुछ अलग करते हैं. मैं खुश हूं कि हमारे पास भी इनमें से एक है, लेकिन हमारी टीम को वास्तव में बहुत अच्छा रहने की जरूरत है." 2010 के वर्ल्ड कप के लिए क्वालिफाइंग मुकाबलों में पुर्तगाल और स्वीडन के पिछले दो मुकाबले बिना गोल के बराबरी पर खत्म हुए थे. स्वीडन टूर्नामेंट में नहीं पहुंच सका जबकि पुर्तगाल बोस्निया हैर्त्सेगोविना के साथ क्वालिफाइंग खेल कर आगे बढ़ गया था. पुर्तगाल के कोच पाउलो बेन्टो का कहना है, "वे बराबर संतुलित लेकिन बहुत कड़े संघर्ष वाले मुकाबले हैं, इब्राहिमोविच बहुत असरदार है लेकिन स्वीडिश उससे भी आगे हैं और दोनों मिल कर काफी अच्छे हैं."

अपने क्वालिफाइंग ग्रुप में दूसरे नंबर पर आने वाली सभी आठ टीमों को क्वालिफाइंग मुकाबले खेलने पड़ेंगे. क्वालिफाइंग मुकाबलों में पुर्तगाल, ग्रीस, कोएशिया और यूक्रेन के प्रदर्शन के आधार पर सोमवार को उनका ड्रॉ निकाला गया.

फ्रांस बनाम यूक्रेन

1998 के वर्ल्ड कप का विजेता और 2006 के उपविजेता फ्रांस को यूक्रेन के साथ एक तरह से आसान ड्रॉ मिली है. यह लगातार दूसरी बार है कि फ्रांस को वर्ल्ड कप के लिए क्वालिफाइंग मुकाबलों से गुजरना पड़ रहा है. चार साल पहले दक्षिण अफ्रीका जाने के लिए आयरलैंड के साथ मुकाबला एक्स्ट्रा टाईम में थियरी आँरी के कुख्यात हैंडबॉल की वजह से उनके हक में गया था. फ्रांस फीफा की रैंकिंग में फिलहाल एक पायदान नीचे है लेकिन वह उनके खिलाफ अब तक अविजित रहा है. यूक्रेन के साथ हुए सात मुकाबलों में फ्रांस ने चार मुकाबले जीते हैं जबकि 3 बराबरी पर छूटे. फ्रांस के कोच डिडिये डिशाँ का कहना है, "यूक्रेन ऐसी टीम है जो ज्यादा गोल नहीं होने देती लेकिन हमें खुशी है कि हम सेकेंड लेग अपने घर में खेल रहे हैं."

इतिहास बनाने चला आईसलैंड

महज तीन लाख से कुछ ज्यादा की आबादी वाला छोटा सा देश आईसलैंड वर्ल्ड कप में खेलने वाला सबसे छोटा देश बन सकता है. फिलहाल यह रिकॉर्ड त्रिनिदाद और टोबैगो के नाम है, जिसने 2006 के वर्ल्ड कप में हिस्सा लिया था और जिसकी आबादी 12 लाख है. आईसलैंड को क्वालिफाइंग मुकाबलों में शामिल 46 देशों के बीच सबसे निचली रैंकिंग पर रखा गया था. हालांकि टीम के पास दिग्गज कोच लार्स लागरबेक हैं. स्वीडन के 65 वर्षीय लागरबेक ने 2002 और 2006 के वर्ल्ड कप में अपने देश का और 2010 में नाईजीरिया का नेतृत्व किया था. 1998 के वर्ल्ड कप में सेमीफाइनल तक पहुंचने वाला क्रोएशिया आईसलैंड को आठ साल पहले हुए दो मुकाबलों में हरा चुका है. यह मुकाबले 2006 के वर्ल्ड कप के लिए क्वालिफाइंग दौर के थे.

उधर रोमानिया 1998 के बाद वर्ल्ड कप में वापसी के इंतजार में है तो दूसरी तरफ 2004 का यूरोपीय चैम्पियन ग्रीस रोमानिया के साथ अपने पिछले मुकाबले के नतीजे को बेहतर करने की फिराक में हैं. 2011 के एक दोस्ताना मैच में वह 3-1 से हार गया था. ग्रीस के कोच फर्नांडो सांतोस ने कहा, "रोमानियाई बहुत योग्य होने के साथ खतरनाक और कठिन विरोधी हैं. ग्रीक फैन्स के लिए संदेश साफ है कि उन्हें टीम में भरोसा कर उसका साथ देना होगा, स्टेडियम को भरने के साथ ही हमारा उत्साह भी बढ़ाना होगा."

इन मुकाबलों में जीतने वाली चार टीमें वर्ल्ड कप 2014 में यूरोप से जाने वाली 13 टीमों में शामिल होंगी. नीदरलैंड्स, इटली, बेल्जियम, जर्मनी, स्विटजरलैंड, स्पेन, इंग्लैंड, रूस और बोस्निया हैर्त्सेगोविना अपने अपने ग्रुप में पहले नंबर पर रह कर ब्राजील का टिकट पहले ही हासिल कर चुके हैं. अगले साल गर्मियों में होने वाले टूर्नामेंट के लिए आठ ग्रुपों का ड्रॉ 6 दिसंबर को ब्राजील के बाहिया में निकाला जाएगा.

एनआर/एमजे (एएफपी, डीपीए)

DW.COM