1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

इबोला से खेल को खतरा

हिन्द महासागर के छोटे से देश सेशेल्स ने सियेरा लियोन की फुटबॉल टीम को देश में आने से मना कर दिया. सियेरा लियोन बुरी तरह इबोला से प्रभावित है. इसके बाद खेल पर इस बीमारी का असर दिखने लगा है.

सेशेल्स को डर था कि खिलाड़ियों के साथ इस बीमारी का वायरस भी उनके देश में पहुंच सकता है. नतीजा यह हुआ कि उन्हें सियेरा लियोन के खिलाफ हार माननी पड़ी और अफ्रीका कप ऑफ नेशन्स से नाम वापस लेना पड़ा.

सेशल्स के स्वास्थ्य आयुक्त डॉक्टर जूड गेडेओन का कहना है, "हम अपनी सुरक्षा को कम नहीं कर सकते हैं." सियेरा लियोन के खिलाड़ी केन्या से सेशेल्स की फ्लाइट पकड़ रहे थे और कुछ ने तो बोर्डिंग भी कर ली थी. उसके बाद उन्हें बताया गया कि उन्हें सेशेल्स जाने की इजाजत नहीं है. अफ्रीकी फुटबॉल संघ भी इसमें कुछ नहीं कर पाया.

मैचों में दिक्कत

फुटबॉल के दीवाने अफ्रीकी देशों, सियेरा लियोन और लाइबेरिया में इबोला का कहर फैला है. वहां अब फुटबॉल से जुड़ी सभी गतिविधियां रुक गई हैं. स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि अगर लोगों को एक जगह जमा होने की अनुमति मिली, तो इससे सेहत पर बेहद खराब प्रभाव पड़ सकता है. इस बीच टोगो ने कहा है कि वह गिनी का दौरा नहीं करेगा. गिनी में भी इबोला का प्रकोप है. सितंबर के पहले हफ्ते में अफ्रीकी कप के लिए इन दोनों के बीच क्वालीफाइंग मैच होना है. उसके बाद अफ्रीकी फुटबॉल संघ ने इस मैच की जगह बदल दी.

इबोला का कोई पक्का इलाज नहीं है और विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक पश्चिम अफ्रीका में इससे 1000 से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं. अब धीरे धीरे नाइजीरिया भी इससे प्रभावित होता जा रहा है. अगर दूसरे देशों ने भी सेशल्स या टोगो की तरह रवैया अपनाया, तो क्वालीफाइंग दौर के 18 मैच प्रभावित हो सकते हैं. इसमें क्वालीफाई करने वाले 16 देश ही अफ्रीका कप में हिस्सा ले सकते हैं, जो हर दो साल पर आयोजित होता है.

हालात पर नजर

जनवरी और फरवरी, 2015 में अफ्रीका कप मोरक्को में होना है. अब अफ्रीकी संघ को गिनी, सियेरा लियोन और अफ्रीकी चैंपियन नाइजीरिया के मैच तय करने में नाकों चने चबाने पड़ रहे हैं. ये मैच सितंबर, अक्टूबर और नवंबर में होने हैं. लाइबेरिया इस क्वालीफाइंग का हिस्सा नहीं है. अब इन मैचों को या तो दूसरे देशों में आयोजित किया जाएगा, या उन्हें रद्द कर दिया जाएगा.

संघ ने एक बयान में कहा, "हम इबोला के बाद की स्थिति पर लगातार नजर बनाए रखेंगे." उसने साफ कर दिया है कि सियेरा लियोन में मैच नहीं खेले जाएंगे, जहां इबोला से 300 लोग मारे गए हैं. सियेरा लियोन ने अगले निर्देश तक देश में सभी तरह के फुटबॉल पर पाबंदी लगा दी है. वह आइवरी कोस्ट, कैमरून और कांगो के खिलाफ अपने मैच घाना की राजधानी अकरा में खेलना चाहता है. घाना ने अभी इस बारे में अपनी राय नहीं रखी है.

सियेरा लियोन फुटबॉल संघ के प्रवक्ता अबु बकर कामारा ने बताया कि वह खिलाड़ियों के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन के सर्टिफिकेट लेगा, ताकि यह प्रमाण रहे कि वे इबोला से पीड़ित नहीं हैं. हालांकि गिनी अभी भी अपने देश में ही मैच कराना चाहता है. गिनी इकलौता इबोला प्रभावित देश है, जिसने अपने देश में इमरजेंसी की घोषणा नहीं की है. हालांकि वहां भी 373 लोग मारे गए हैं.

इबोला प्रभावित देशों के मैच नौ अफ्रीकी देशों में होने हैं और उन्होंने नहीं बताया कि उनका रवैया क्या होगा. अफ्रीकी फुटबॉल संघ जल्द कोई फैसला लेना चाहता है.

एजेए/एएम (एपी)

DW.COM