1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

इतिहास में आज: 8 फरवरी

दुनिया के पहले इलेक्ट्रॉनिक शेयर बाजार नैस्डैक की शुरुआत आज ही के दिन 8 फरवरी, 1971 को हुई. अमेरिका के वॉल स्ट्रीट पर पिछले चार दशकों से भी ज्यादा समय से नैस्डैक वित्तीय बाजार का केन्द्र बना हुआ है.

बाजार में लगी कुल पूंजी के लिहाज से नैस्डैक दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा स्टॉक इंडेक्स है. इसके आगे अमेरिका का ही न्यू यॉर्क स्टॉक एक्सचेंज है, जिसके कारोबार पर पूरी दुनिया नजर रखती है.

नैस्डैक शुरू होने से पहले शेयर बाजार में निवेश के लिए 'ओवर द काउंटर' तरीका चलता था. इसी इंडेक्स ने बढ़ती हुई कंपनियों में निवेश के लिए आईपीओ का प्रचलन भी शुरू किया. इससे बहुत सी कंपनियों को स्टॉक बाजार में निवेश करने वालों की पूंजी को अपनी कंपनियों में लगाने का मौका मिला. नैस्डैक दुनिया भर के लिए शेयरों को इलेक्ट्रॉनिक रूप में खरीदने और बेचने का एक वैश्विक बाजार है.

नैस्डैक का मकसद ऐसे बाजार का निर्माण था जहां निवेशक शेयरों को तेज और पारदर्शी तरीके से कंप्यूटर की मदद से खरीद बेच सकें. 2006 में नैस्डैक आधिकारिक रूप से एनएएसडी से अलग हो गया और एक राष्ट्रीय प्रतिभूति एक्सचेंज के तौर पर काम करने लगा. अगले साल नैस्डैक ने स्कैंडीनेवियाई एक्सचेंज समूह ओएमएक्स के साथ नैस्डैक ओएमएक्स समूह बनाया.

(एक नजर बैंकिंग में क्रांति लाने वाले एटीएम के इतिहास पर)

DW.COM

संबंधित सामग्री