1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

इतिहास में आज: 7 नवंबर

साल 1998 में दुनिया का सबसे बुजुर्ग अंतरिक्षयात्री सफलता पूर्वक अपना मिशन पूरा कर धरती पर वापस लौटा था.

अमेरिकी सीनेटर जॉन ग्लेन के नाम दुनिया के सबसे बड़े उम्र के अंतरिक्षयात्री होने का रिकार्ड दर्ज है. डिस्कवरी यान पर नौ दिनों की अपनी ऐतिहासिक अंतरिक्षयात्रा के बाद लौटने पर उन्हें तत्कालीन राष्ट्रपति बिल क्लिंटन ने खास बधाई संदेश भेजा. 77 साल की उम्र में ग्लेन और उनके छह अन्य साथियों ने केनेडी स्पेस सेंटर पर वापसी की. वे अंतरिक्ष में 36 लाख मील से भी ज्यादा की दूरी तय करके लौटे थे. इस दौरान उन्होंने ग्लोब के 135 चक्कर काटे थे.

नासा ने ग्लेन को एक खास परीक्षण के लिए चुना था जिसका मकसद बुढ़ापे की प्रक्रिया पर माइक्रोग्रैविटी का असर देखना था. मगर कुछ लोगों ने इसे देश के स्पेस प्रोग्रामों की तरफ आम लोगों का ध्यान खींचने के लिए एक पब्लिसिटी स्टंट भी माना था. जनवरी 1999 में ग्लेन ओहायो के डेमोक्रेट सीनेटर के पद से रिटायर हुए. इसी साल नासा ने अपने लुईस रिसर्च सेंटर का नाम बदलकर ग्लेन रिसर्च सेंटर कर दिया.

DW.COM