1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

इतिहास में आज: 6 फरवरी

एलिजाबेथ द्वितीय को इंग्लैंड की महारानी बने आज 64 साल हो गए. उन्होंने इसी दिन 1952 में ब्रिटेन की गद्दी संभाली थी. तब वह महज 26 साल की थीं.

उस वक्त ब्रिटेन के प्रधानमंत्री विंस्टन चर्चिल थे और सिर्फ पांच साल पहले भारत उससे आजाद हुआ था. लेकिन एशिया और अफ्रीका के कई हिस्से तब भी ब्रिटेन के उपनिवेश थे. शाही परिवार में भारी हलचल के बावजूद महारानी एलिजाबेथ द्वितीय दुनिया में सबसे ज्यादा पहचाने जाने वाले लोगों में शामिल हैं.

21 अप्रैल 1926 में एलिजाबेथ अलेक्जेंड्रा मेरी का जन्म हुआ. उन्हें परिवार में लिलिबेट के नाम से जाना गया. गद्दी की लाइन में अंकल एडवर्ड, प्रिंस ऑफ वेल्स और उनके पिता जॉर्ज, ड्यूक ऑफ यॉर्क के बाद वह तीसरी थीं. उनके चाचा किंग एडवर्ड VIII ने अमेरिकी महिला वॉलिस सिंपसन से शादी करने के लिए पद त्याग दिया और एलिजाबेथ के पिता किंग जॉर्ज VI गद्दी पर बैठे.

1936 में पिता के राजा बनने के साथ एलिजाबेथ बकिंघम पैलेस में रहने आईं. दूसरे विश्व युद्ध में 18 साल की उम्र में वह नेशनल सर्विस में शामिल हुईं और सेना में ड्राइवर बन गईं. 1947 में अपने दूर के रिश्तेदार नौसेना कमांडर फिलिप माउंटबेटन से उन्होंने शादी की, जिन्हें ग्रीस और डेनमार्क का प्रिंस घोषित किया गया.

Königin Elizabeth empfengt den indischen Primierminister Narendra Modi in Buckingham Palace

नवंबर 2015 में भारतीय पीएम नरेंद्र मोदी ने ब्रिटेन में महारानी से की मुलाकात

एलिजाबेथ की केन्या यात्रा के दौरान उनके पिता की अचानक मृत्यु हो गई जिसके बाद एलिजाबेथ को ब्रिटेन की महारानी घोषित किया गया. वह तारीख छह फरवरी, 1952 थी. इसके अगले साल 2 जून 1953 को उनका राजतिलक किया गया. रानी एलिजाबेथ लोगों में अपनी रंगीन पोशाकों और टोपियों के लिए जानी जाती हैं.

DW.COM

संबंधित सामग्री