1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

इतिहास में आज: 5 जुलाई

आज ही के दिन आर्थर ऐश विंबल्डन का सिंगल्स मुकाबला जीतने वाले पहले अश्वेत खिलाड़ी बने थे. 1975 में उन्होंने जिमी कॉनर्स को हराकर एक नया इतिहास रचा.

आर्थर ऐश अफ्रीकी अमेरिकी टेनिस खिलाड़ी थे, वे विंबल्डन, यूएस ओपन और ऑस्ट्रेलियाई ओपन का सिंगल्स खिताब जीतने वाले पहले और आखिरी अश्वेत खिलाड़ी थे. 5 जुलाई 1975 को ऐश ने पिछले साल के विंबल्डन खिताब जीतने वाले जिमी कॉनर्स को 6–1, 6–1, 5–7, 6–4 से हराया.

आर्थर ऐश को बचपन से ही टेनिस से लगाव था. जब वे छोटे थे तब उनकी प्रतिभा की पहचान स्टार टेनिस खिलाड़ी पांचो गोंजालिस ने की. उनकी देखरेख में ऐश की प्रतिभा निखरती गई और वे बुलंदियों को चुमने लगे. 1968 में ऐश यूएस ओपन जीतने वाले पहले अश्वेत खिलाड़ी बने, इसके दो साल बाद ऑस्ट्रेलियाई ओपन पर उन्होंने झंडा गाड़ा और दूसरी बार ग्रैंड स्लाम पर कब्जा किया. अगले सात साल में ऐश को कई टूर्नामेंटों में जीत हासिल हुई लेकिन कोई बड़ा खिताब वे जीत नहीं पाए.

1975 में 31 साल के हो चुके आर्थर को देख ऐसा लगता था कि वह अपने बेहतरीन दिनों को पार कर चुके हैं लेकिन उनकी निगाहें विंबल्डन पर टिकीं थी. उन्होंने विंबल्डन में अपनी जीत से टेनिस जगत को हिला कर रख दिया. इसी जीत के साथ वे विंबल्डन जीतने वाले पहले अश्वेत बने.

1980 में ऐश ने हार्ट अटैक के बाद टेनिस मुकाबलों में भाग लेना बंद कर दिया. उन्होंने अपने करियर में 51 टूर्नामेंट जीते. रिटायरमेंट के दिनों में उन्होंने तीन संस्करणों वाली किताब "ए हार्ड रोड टू ग्लोरी" लिखी. इसमें उन्होंने अमेरिका में अश्वेत खिलाड़ियों के संघर्ष के बारे में लिखा. 1983 में डबल बायपास सर्जरी के बाद जब उन्हें खून चढ़ाया जा रहा था तो वे एचआईवी संक्रमण के शिकार हो गए. 1992 में दुनिया के सामने उन्होंने अपनी बीमारी के बारे में बताया और इसके बाद लोगों में एचआईवी और एड्स की जागरुकता बढ़ाने के कार्य में लग गए. 6 फरवरी 1993 को एड्स के कारण उनकी मौत हो गई.

संबंधित सामग्री