1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

इतिहास में आज: 28 जनवरी

आज के दिन 1807 में एक जर्मन उद्यमी फ्रेडरिक अल्बर्ट विंडसर ने लंदन की सड़क पर दुनिया की सबसे पहली गैस लाइटें जलाईं थीं.

28 जनवरी 1807 को लंदन की पॉल मॉल स्ट्रीट, गैस लाइट से जगमग होने वाली दुनिया की पहली सड़क बनी. साल 1823 आते आते लंदन की सड़कों पर करीब 215 मील की दूरी तक लगभग 40 हजार लैंप लगाए जा चुके थे.

1804 में जर्मनी के एक उद्यमी फ्रेडरिक अल्बर्ट विंडसर ने सबसे पहले लंदन के लाइकियम थिएटर में गैस लाइटों पर व्याख्यान दिया और उनका प्रदर्शन भी किया. शुरु से ही विंडसर की दिलचस्पी गैस का इस्तेमाल स्ट्रीट लाइटों के लिए करने में थी. उन्होंने लंदन के पॉल मॉल में एक घर खरीदा और वहीं 4 जून 1807 को ब्रिटेन के राजा के जन्मदिन पर अपनी गैस लाइट का पहला सार्वजनिक प्रदर्शन किया.

लंदन की ही तर्ज पर ब्रिटेन के दूसरे कई शहरों में सड़कों पर गैस लैंप लगाए गए. स्कॉटलैंड के ग्लासगो में भी 5 सितंबर 1818 को पहला गैस लैंप जला. वर्ष 1809 से 1810 के बीच विंडसर ने अपनी पहली सार्वजनिक गैस कंपनी शुरु की. इसका नाम 'दि गैस लाइट एंड कोक कंपनी' रखा गया, जो कि 1948 तक इसी नाम से सक्रिय रही. 1948 में विंडसर की कंपनी का राष्ट्रीकरण हो गया.

DW.COM