1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

इतिहास में आज: 24 जून

24 जून, 1983 को अमेरिका की पहली महिला अंतरिक्षयात्री सैली राइड छह दिनों तक अंतरिक्ष में रहकर सकुशल वापस लौटी थीं.

अमेरिकी अंतरिक्ष अभियान 'चैलेंजर स्पेस शटल' के साथ अंतरिक्ष में गईं 32 साल की राइड की यात्रा से काफी पहले से ही उनसे जुड़ी तमाम खबरें मीडिया में आने लगी थीं. 19 जून को जब चैलेंजर के साथ पूर्व टेनिस चैंपियन राइड ने उड़ान भरी तो अंतरिक्ष यात्राओं के इतिहास में एक और पन्ना जुड़ गया. राइड ने 1977 में अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के एक विज्ञापन से प्रभावित होकर अंतरिक्षयात्री बनने का फैसला किया था. वे कॉलेज में फिजिक्स और अंग्रेजी की पढ़ाई कर रही थीं.

नासा के उस विज्ञापन को देख कर 1,000 से भी ज्यादा महिलाओं और करीब 7,000 पुरुषों ने एप्लीकेशन भेजे. इस प्रक्रिया में कुल 35 लोगों को चुना जाना था. चुने गए लोगों को 1978 के ट्रेनिंग प्रोग्राम में दाखिला मिला जिनमें से एक राइड भी थीं. यहीं उनकी मुलाकात अपने साथी अंतरिक्षयात्री स्टीव हॉली से हुई जिनसे आगे चलकर राइड ने शादी की.

चैलेंजर पर फ्लाइट इंजीनियर की भूमिका में राइड का मुख्य काम यान के सभी कंट्रोल्स पर नजर रखना था. उनकी जिम्मेदारी थी कि शटल के उड़ान भरते और उतरते समय किसी तरह की गड़बड़ी ना हो. इसके अलावा जिस महत्वपूर्ण काम के लिए राइड को याद किया जाता है वह था स्पेस में उड़ते हुए एक सैटेलाइट को पकड़ना. ऐसा पहली बार हुआ था कि अपनी कक्षा में उड़ान के दौरान किसी ने पचास फीट लंबे एक कृत्रिम हाथ से एक सैटेलाइट को वापस खींच लिया.

इस सफल प्रयोग से ही आगे चलकर अपनी कक्षा में घूमते हुए सैटेलाइट्स की मरम्मत का काम करने की प्रेरणा मिली. राइड अंतरिक्ष में जाने वाली विश्व की तीसरी महिला थीं. उनकी इस उपलब्धि पर विश्व की सबसे पहली महिला अंतरिक्षयात्री वेलेंतीना तेरेश्कोवा ने राइड को बधाई संदेश के साथ एक टेलीग्राम भेजा था.

23 जुलाई, 2012 को पाचक ग्रंथि के कैंसर के कारण कैलिफोर्निया में उनका देहांत हो गया.

DW.COM