1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

इतिहास में आज: 20 सितंबर

आज ही के दिन 1973 में टेनिस की दुनिया के मशहूर 'बैटल ऑफ सेक्सेज' में बिली जीन किंग ने जीत दर्ज की. उनकी इस जीत को केवल खेल में ही नहीं बल्कि महिला अधिकारों की जीत के तौर पर देखा गया.

अपने समय की टॉप महिला टेनिस खिलाड़ी रही अमेरिका की बिली जीन किंग ने 29 साल की उम्र में पूर्व नंबर एक पुरुष खिलाड़ी बॉबी रिग्स को हराया था. रिग्स पुरुषों की श्रेष्ठता में अपने विश्वास को खुलेआम जाहिर करते थे. रिग्स मानते थे कि महिलाएं पुरुषों से कमतर होती हैं और वे खेल का दबाव बर्दाश्त नहीं कर सकतीं. इसी विश्वास के साथ रिग्स ने यह खुली चुनौती दे डाली थी कि वह 55 साल की उम्र में भी किसी भी महिला खिलाड़ी को हराने का दमखम रखते हैं. जब बिली जीन किंग ने रिग्स की यह खुली चुनौती स्वीकारी तबसे ही यह खबर मीडिया में सुर्खियां बटोरने लगी. इस निर्णायक मैच को देखने 30 हजार से भी ज्यादा दर्शक स्टेडियम पहुंचे. दुनिया भर के करीब 5 करोड़ लोगों ने इस मुकाबले को टीवी पर देखा. मैच में बिली जीन ने रिग्स को 6-4, 6-3, 6-3 से हराया.

22 नवंबर, 1943 को कैलिफोर्निया में पैदा हुई बिली जीन बचपन में सॉफ्टबॉल खेला करती थीं. काफी बाद में उन्होंने टेनिस खेलना शुरु किया लेकिन 17 साल की उम्र तक आते आते ही इस खेल में महारत हासिल कर ली. इसी उम्र में बिली जीन ने विंबलडन में अपना पहला महिला डबल्स खिताब जीता. विंबलडन में कुल मिलाकर जीन ने 20 खिताब जीते. अपने खेल करियर के दौरान उन्होंने महिला और पुरुष खिलाड़ियों को दी जाने वाली इनाम राशि में भारी अंतर को लेकर विरोध जताया. उनकी कोशिशों के ही कारण 1973 के यूएस ओपन में पहली बार किसी बड़े खेल मुकाबले में पुरुष और महिला दोनों विजेताओं के लिए समान इनाम राशि की घोषणा हुई. 'मदर ऑफ मॉडर्न स्पोर्ट्स' कहलाने वाली बिली जीन किंग कुल 39 ग्रैंड स्लैम खिताब जीतकर रिटायर हुईं.

DW.COM