1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

इतिहास में आज: 19 अगस्त

2004 में आज ही के दिन अमेरिकी इंटरनेट कंपनी गूगल ने अमेरिकी स्टॉक एक्सचेंज के जरिए अपने प्रारंभिक शेयर बाजार में उतारे थे.

दुनिया की सबसे बड़ी इंटरनेट कंपनी बन चुकी गूगल ने 2004 में अपने आईपीओ से करीब 1.67 अरब अमेरिकी डॉलर जमा किए थे. हाल ही में कंपनी ने एल्फाबेट नामकी पेरेंट कंपनी बना कर गूगल को उसकी सबसे बड़ी ईकाई के रूप में पुनर्गठित कर दिया है. नई गूगल कंपनी का प्रमुख सुंदर पिचाई नामके एक भारतीय मूल के इंजीनियर को बनाया गया है.

गूगल के संस्थापक लैरी पेज और सर्गेई ब्रिन ने मिलकर 4 सितंबर, 1998 को अपनी कंपनी की नींव रखी. उस समय ये दोनों व्यक्ति स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी में शोध छात्र थे. नए तरह के एल्गोरिद्म के इस्तेमाल और सरल से दिखने वाले होमपेज का डोमेन नाम भी google.stanford.edu हुआ करता था. अस्तित्व में आने के कुछ ही समय में गूगल पूरी दुनिया में पसंद किया जाने लगा और जल्दी ही गूगल दुनिया में सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाने वाला सर्च इंजन बन गया.

19 अगस्त, 2004 को हुए आईपीओ में कंपनी ने करीब एक करोड़, 96 लाख शेयरों को 85 डॉलर प्रति शेयर के भाव से बाजार में उतारा. 2013 में गूगल के एक शेयर की कीमत 1,000 डॉलर तक भी पहुंच चुकी है जो अब तक का सबसे ऊंचा भाव रहा है. कंपनी की स्थापना के समय ही गूगल ने अपने मिशन स्टेटमेंट में अपना लक्ष्य लिखा था कि वे "विश्व भर की जानकारियों को सुव्यवस्थित करना और उसे दुनिया भर की पहुंच में लाना" चाहते हैं. आज गूगल अपने इस लक्ष्य को पूरा करने का दिशा में काफी लंबा सफर तय कर चुका है.

DW.COM