1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

इतिहास में आज: 16 अक्टूबर

1987 में पहली बार अमेरिका में एक गहरे उजाड़ कुएं में गिरी बच्ची को निकाले जाने की प्रक्रिया को लाखों लोगों ने टीवी पर देखा.

16 अक्टूबर 1987 की रात लाखों लोगों ने पट्टियों में लिपटी हुई एक बदहाल सी बच्ची बेबी जेसिका को देखा. एक गहरे कुएं में गिरी केवल 18 महीने की एक बच्ची को अमेरिका के पैरामेडिक स्टाफ ने कुएं से बाहर निकालने में सफलता पाई थी. इस बचाव अभियान के बारे में पिपोर्ट करने करने के लिए पत्रकारों और कैमरामैनों की भीड़ टेक्सास के मिडलैंड शहर में उमड़ गई थी. लाइव टेलिविजन प्रसारण हुए और घर बैठे हुए लोग बेबी जेसिका को बाहर निकाले जाने के दौरान अपने टीवी सेटों से चिपके रहे. कुल 58 घंटों तक कुएं में फंसी रही जेसिका मेक्लोर का बचाव अभियान भावनाओं से ओतप्रोत रहा.

14 अक्टूबर की सुबह बेबी जेसिका एक डे-केयर सेंटर में दूसरे बच्चों के साथ खेलते खेलते कुएं के 8-इंच चौड़े मुंह में गिर गई. करीब 22 फीट की गहराई तक गिरने के बाद बच्ची एक जगह जा कर अटक गई. अगले करीब ढाई दिनों तक बचाव दल, खनन विशेषज्ञ और स्थानीय स्वयंसेवियों का समूह लगातार उसे निकालने की कोशिश में लगे रहे. बचाव दल ने इस कुएं के समानान्तर एक गहरी नली के आकार में खुदाई की. फिर इस नली और उस कुएं को जोड़ने की कोशिश हुई. एक माइक्रोफोन को कुएं में डाला गया जिससे बच्ची की आवाजें सुनाई देती रहीं.

कुएं से निकाले जाने के बाद बच्ची को एक महीने से भी ज्यादा समय तक अस्पताल में रहना पड़ा. इस बीच उसे देश भर से तमाम शुभकामना संदेश और गिफ्ट पहुंचते रहे. बेबी जेसिका को अस्पताल में देखने खुद अमेरिका के उप राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश पहुंचे. तत्कालीन राष्ट्रपति रोनाल्ड रीगन ने फोन करके उसके परिवार को बच्ची के जल्दी ठीक हो जाने की शुभकामना दी. बचपन की इस घटना के बाद जेसिका मेक्लोर का पूरा जीवन ज्यादातर सार्वजनिक पटल से दूर ही रहा.

DW.COM