1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

इतिहास में आज: 13 नवंबर

अमेरिकी अंतरिक्ष यान मैरिनर-9 पहला अंतरिक्ष विमान था जिसने किसी दूसरे ग्रह पर दस्तक दी. 13 नवंबर 1971 को इसने मंगल की कक्षा में प्रवेश किया.

भारत का मंगलयान इस समय अंतरिक्ष यात्रा पर है. मंगल पर अंतरिक्ष यान भेजने की दिशा में आज का दिन बेहद अहम है.

मंगल पर पहला मानव रहित यान मैरिनर-9 नासा ने 30 मई 1971 को अंतरिक्ष में भेजा था. आज के दिन 1971 में मैरिनर-9 ने मंगल की कक्षा में प्रवेश किया और उसके चारों तरफ चक्कर लगाना शुरु किया. मैरिनर-9 पर लगे कैमरों ने मंगल की 7,329 तस्वीरें लीं. यह पहली बार था जब वैज्ञनिकों को किसी दूसरे ग्रह की साफ तस्वीरें मिली हों.

तस्वीरों के जरिए पता चला कि मंगल पर कई ज्वालामुखी उठते हैं, जो कि धरती पर मौजूद ज्वालामुखियों से कहीं बड़े हैं. एक ज्वालामुखी की उंचाई धरती के औसत ज्वालामुखी से दोगुना थी. इन तस्वीरों से ही मंगल पर पानी मौजूद होने के बारे में भी पता चला.

मैरिनर-9 की मदद से मंगल पर जीवन की संभावना के बारे में उम्मीद जगी. मंगल के बारे में वैज्ञानिकों की धारणा बदली और कई रिसर्चों को नई दिशा मिली. 2022 तक मैरिनर-9 मंगल की कक्षा में ही रेहगा. उसके बाद वह काम करने की स्थिति में नहीं रहेगा.

DW.COM

संबंधित सामग्री