1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

इतिहास में आज: तीन जनवरी

अब तक के महानतम फॉर्मूला वन ड्राइवर मिषाएल शूमाखर का जन्म आज ही के दिन 1969 में हुआ था. 2014 में शूमाखर एक गंभीर स्की दुर्घटना के शिकार हुए थे.

जर्मनी के कोलोन शहर में जन्मे शूमाखर के नाम रिकार्ड सात फॉर्मूला वन विश्व चैंपियनशिप के खिताब हैं. 1990 की शुरुआत में अपने 16 साल लंबे फॉर्मूला वन करियर की शुरूआत करने वाले शूमाखर ने सबसे ज्यादा ग्रां प्री खिताब जीतने का रिकार्ड भी अपने नाम किया. यह रिकार्ड 91 खिताबों का है जिसमें से 68 में उन्हें पोल पोजिशन मिली थीं. पोल पोजिशन उस ड्रइवर को मिलती है जिसने रेस के क्वालिफाइंग राउंड में सबसे तेज गाड़ी चलाई हो.

शूमाखर ने 1991 में करियर शुरु किया और एक साल बाद 1992 में बेल्जियन ग्रां प्री में अपना पहला खिताब जीता. ज्यादातर यूरोप में आयोजित होने वाली फॉर्मूला वन रेस को दुनिया का सबसे मंहगा खेल कहा जाता है. इनमें हिस्सा लेना बहुत मंहगा है और खेल खतरनाक. फॉर्मूला वन ड्राइवर 230 मील प्रति घंटा से भी तेज गति से कार चलाते हैं. इनकी कारें भी पोर्शे, फरारी, टोयोटा जैसे बड़े कार निर्माता बनाते हैं.

जब शूमाखर ने 1994 में अपनी पहली विश्व चैंपियनशिप जीती तब ऐसा करने वाले जर्मनी के वह पहले ड्राइवर थे. इसके बाद उन्होंने 1995, 2000, 2001, 2002, 2003 और 2004 में भी विश्व चैंपियनशिप जीती. 2003 में अपने छठे विश्व खिताब के साथ ही शूमाखर ने अर्जेंटीना के ड्राइवर युआन मानुएल फांगियो के पांच विश्व खिताब जीतने के रिकॉर्ड को तोड़ दिया. इतिहास के इस सबसे अमीर और सबसे सफल फॉर्मूला वन ड्राइवर के साथ कुछ विवाद भी जुड़े. कई मौकों पर कहा गया कि उन्होंने नियमों का उल्लंघन किया और खेल की भावना से नहीं खेला. अपने प्रतिद्वंद्वियों के साथ रेस में आक्रामक व्यवहार करने और उन्हें टक्कर देने के कारण भी उनकी आलोचना हुई. 2006 के ब्राजीलियन ग्रां प्री के बाद 37 साल की उम्र में शूमाखर ने एफ1 रेसिंग से सन्यास ले लिया.

DW.COM