1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

इतिहास में आज: आठ अप्रैल

आज ही के दिन 1950 में नेहरू-लियाकत समझौता हुआ था जिसे दिल्ली समझौते के नाम से भी जाना जाता है.

भारत और पाकिस्तान के बीच आठ अप्रैल 1950 को हुए इस समझौते का खास मकसद था दोनों देशों में अल्पसंख्यकों के अधिकारों को सुरक्षित करना और भविष्य में युद्ध की संभावनाओं को खत्म करना. नई दिल्ली में छह दिनों तक चली बातचीत के बाद भारत के तत्कालीन प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री लियाकत अली खान ने इस समझौते पर दस्तखत किए.

दिल्ली समझौते के तहत लूटी गई संपत्ति की वापसी और दबाव डालकर धर्म परिवर्तन पर रोक की बातें तय हुईं. इसके बाद दोनों देशों में अल्पसंख्यक कमेटी के गठन हुए. इसके साथ ही करीब दस लाख से ज्यादा शरणार्थी पूर्वी पाकिस्तान से, जो कि अब बांग्लादेश है, भारत के पश्चिम बंगाल आए.

भारत और पाकिस्तान के विभाजन के बाद 1949 में स्थिति बेहद तनाव पूर्ण रही. दोनों देशों के बीच हिन्दू मुस्लिम शरणार्थियों के अलावा आर्थिक मामलों को लेकर भी खींचतान चलती रही. ऐसे में हालात को काबू में करने के लिए दोनों देशों के बीच वार्ता के बाद इस नतीजे पर पहुंचा गया. हालांकि कश्मीर को लेकर दोनों देशों के बीच तनाव जारी रहा, जो कि आज भी ठंडा नहीं पड़ा है.

संबंधित सामग्री