1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

इतिहास में आजः14 जुलाई

आज भले ही अमेरिका में सबसे बड़ा नोट 100 डॉलर का हो लेकिन एक जमाना था जब अमेरिका में दस हजार डॉलर और एक लाख डॉलर का भी नोट होता था. कब और क्यों हुआ ये बंद.

सिर्फ 100 डॉलर तक का ही नोट रखने का फैसला 1960 के दशक में लिया गया. 14 जुलाई 1969 को अमेरिका के वित्त मंत्रालय और फेडरल रिजर्व सिस्टम ने घोषणा की कि 500, 1,000, 5,000 और 10,000 डॉलर के नोटों का इस्तेमाल तुंरत प्रभाव से रोक दिया जाएगा क्योंकि इनका उपयोग बहुत कम हो रहा है. हालांकि 1969 के साल में ये नोट जारी किए जाते रहे. इन्हें 1945 में आखिरी बार प्रिंट किया गया था.

अमेरिका में जो सबसे बड़ा नोट सरकार ने छापा था वह एक लाख डॉलर का गोल्ड सर्टिफिकेट था. यह सीरीज 1934 में बनी थी. ये नोट 18 दिसंबर 1934 से लेकर 9 जनवरी 1935 तक छापे गए. ये सिर्फ अमेरिका के फेडरल रिजर्व बैंक के ट्रेजरर यानी खजांची ही दे सकते थे और वह भी इतने ही मूल्य की सोने की ईंटें दिए जाने पर. ये नोट सिर्फ इन रिजर्व बैंकों के बीच लेन देन के लिए इस्तेमाल होते थे. आम जनता के लिए ये नहीं थे.

इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम शुरू होने के कारण बहुत ज्यादा कैश लेने देने की प्रथा धीरे धीरे कम हो गई. काले धन और अवैध ड्रग्स के कारोबार में इस्तेमाल होने की शंका के मद्देनजर अमेरिका आने वाले दिनों में भी बड़े नोटों के इस्तेमाल का कोई इरादा नहीं रखता.

DW.COM

संबंधित सामग्री