1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

इतिहास में आजः 7 सितंबर

खूबसूरती की नुमाइश और इसकी प्रतियोगिता के लिहाज से आज का दिन खास है. इसी दिन 1921 में पहली बार औरतों के लिए सुंदरता के मुकाबले की शुरुआत की गई. मिस अमेरिका के रूप में इसे कितनी कामयाबी मिली, बताने की जरूरत नहीं.

मिस अमेरिका इवेंट कराना शुद्ध रूप से बिजनेस आइडिया था. साल भर पहले यानी 1920 में सैलानियों को रिझाने के लिए न्यू जर्सी राज्य की अटलांटिक सिटी में इसी तरह का मिलता जुलता कार्यक्रम हुआ, जिसके बाद आयोजकों ने संगठित होकर योजनाबद्ध तरीके से मिस अमेरिका आयोजित करने का फैसला किया. यह वही दौर था, जब अमेरिकी अखबार अपने पाठकों की संख्या बढ़ाने के लिए आम महिलाओं से तस्वीरें मंगा कर उनकी प्रतियोगिता करा रहे थे और जीतने वालों को पुरस्कार दे रहे थे.

अटलांटिक सिटी के औद्योगिक समुदाय ने इसी आइडिया को आगे बढ़ाया और अलग अलग शहरों की विजेता सुंदरियों को बड़े मुकाबले में आयोजित किया. 1921 में इसे देखने एक लाख लोग पहुंच गए, आयोजकों ने इसकी कल्पना भी नहीं की थी. कलाकारों के एक पैनल ने वाशिंगटन डीसी की 16 साल की मार्गरेट गोरमैन को "सुनहरी जलपरी" खिताब से नवाजा. इनाम में मिला 100 डॉलर.

मिस अमेरिका की कहानी यहीं से शुरू होती है. अगले साल यानी 1922 में मार्गरेट गोरमैन जब दूसरी बार खिताब में हिस्सा लेने पहुंचीं, तो वह अमेरिकी झंडा लपेटे हुई थीं और वहीं से यह प्रतियोगिता "मिस अमेरिका" के नाम पर मशहूर हो गया. इसके बाद पता नहीं कितने ही देशों ने ऐसी प्रतियोगिता की शुरुआत की और बाद में मिस यूनिवर्स और मिस वर्ल्ड जैसे मुकाबलों से सुंदरियों की प्रतियोगिता पूरे विश्व में फैल गई.

DW.COM