1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

इतिहास में आजः 7 नवंबर

जर्मनी के सबसे प्रभावशाली पत्रकारों में से एक रहे रुडोल्फ ऑगश्टाइन का आज ही के दिन निधन हुआ. निमोनिया के कारण 7 नवंबर 2002 को जर्मनी के हैम्बर्ग शहर में ऑगश्टाइन ने आखिरी सांस ली थी.

5 नवंबर 1923 को जन्मे रुडोल्फ ऑगश्टाइन रेडियो ऑपरेटर थे और दूसरे विश्वयुद्ध के दौरान जर्मन तोपखाने में पर्यवेक्षक का भी काम कर चुके थे. 1946-47 में ऑगश्टाइन ने जर्मन पत्रिका डेय श्पीगल की स्थापना की थी. उस समय डेय श्पीगल जर्मनी की सबसे महत्वपूर्ण साप्ताहिक खोजी पत्रिका थी और आज भी इसका काफी नाम है. 1961 और 1962 के श्पीगल स्कैंडल के दौरान ऑगश्टाइन को गिरफ्तार किया गया था और उन्हें 103 दिन के लिए जेल जाना पड़ा था. स्कैंडल के बाद जनता में गुस्सा भड़क गया और तत्कालीन रक्षा मंत्री फ्रांस योसेफ श्ट्राउस को इस्तीफा देना पड़ा.

1972 में ऑगश्टाइन जर्मन संसद के सदस्य चुने गए लेकिन 1973 में उन्होंने अपनी सदस्यता छोड़ दी क्योंकि वो एक पत्रकार के रूप में अपने कर्तव्यों पर ज्यादा ध्यान देना चाहते थे. ऐसा माना जाता था कि ऑगश्टाइन पत्रिका से जुड़ कर खुद को ज्यादा ताकतवर समझते थे. इतिहास के शौकीन ऑगश्टाइन ने कई किताबें भी लिखी. स्टीफान आष्ट जब डेय श्पीगल के मुख्य संपादक बने उसके बाद ऑगश्टाइन अपनी निजी जिंदगी में ज्यादा समय देने लगे. हालांकि अपने निधन के वक्त तक वो पत्रिका में टिप्पणियां लिखते रहे. ऑगश्टाइन को साल 2000 में उन्हें सदी के पत्रकार का खिताब दिया गया.

DW.COM