1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

इतिहास में आजः 21 सितंबर

अमेरिका के न्यू इंग्लैंड में आज ही के दिन 1938 में एक भयानक तूफान आया जिसे द ग्रेट हरिकेन नाम दिया गया. इसे अब तक के सबसे खतरनाक तूफानों में एक गिना जाता है, जिससे जान माल की भारी हानि हुई.

Sturm Kyrill - Nordseeküste bei Dagebüll

1938 सितंबर को अफ्रीका के तट के पास द ग्रेट हरिकेन पैदा होने लगा. इसकी तीव्रता लगातार बढ़ती गई और 21 सितंबर को तूफान अमेरिका के पूर्वी तट पर लॉन्ग आइलैंड पर पहुंचा. तूफान की वजह से 800 लोगों की मौत हो गई और लगभग 60,000 घर तबाह हो गए.

माना जाता है कि उस वक्त जितना नुकसान हुआ, वह आज के हिसाब से करीब 4.7 अरब डॉलर है. 1951 में भी द ग्रेट हरिकेन के दौरान तबाह हुए पेड़ और इमारत देखे जा सकते थे. न्यू इंग्लैंड में इससे पहले और इसके बाद अब तक इतना घातक तूफान नहीं आया. कहते हैं कि 1635 में द ग्रेट कोलोनियल हरिकेन काफी खतरनाक था और 2012 में हरिकेन सैंडी ने भी पैसों के लिहाज से बहुत नुकसान किया, लेकिन इनके मुकाबले द ग्रेट हरिकेन अब भी सबसे महंगा पड़ने वाला तूफान माना जाता है.

न्यूयॉर्क टाइम्स ने 1938 में इस तूफान की रिपोर्ट कुछ इस तरह पूरी की, "न्यू बेडफोर्ड का पूरा शहर अंधेरे में डूबा था और सिर्फ दो इमारतों पर रोशनी दिख रही थी. बिजली सप्लाई कहीं नहीं थी. अधिकारियों ने सिर्फ इस शहर का नुकसान 10 लाख डॉ़लर (उस वक्त के हिसाब से) से ऊपर आंका है. पानी में फंसे घरों में राहत और बचाव के लिए सुरक्षा एजेंसियों को बुलाया गया है."

DW.COM