1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

इतिहास में आजः 2 नवंबर

2 नवंबर 1951 को मिस्र में ब्रिटेन के खिलाफ हुए प्रदर्शनों पर काबू पाने के लिए करीब 6 हजार ब्रिटिश सैनिक पहुंचे थे. इसके अलावा बड़ी संख्या में सैनिक मिस्र पहुंचने के रास्ते में थे.

ब्रिटेन ने दूसरे विश्व युद्ध के बाद पहली बार इतनी बड़ी संख्या में ब्रिटिश फौज को किसी और देश भेजा था. अगले दो साल तक लड़ाई जा रही. ब्रिटिश फौज और मिस्र की पुलिस के बीच हिंसक झड़पें होने लगी और तीन हफ्ते के बाद ब्रिटेन ने मिस्र में रह रहे अपने हजारों नागरिकों को वहां से वापस बुला लिया. 1952 में ब्रिटिश सेना ने मिस्र में तख्ता पलट दिया और 1953 में संवैधानिक राजशाही को खत्म कर दिया गया.

1954 में अरब राष्ट्रवादी नेता गमाल अब्दुल नासिर सत्ता में आए और उन्होंने 1956 में स्वेज नहर को राष्ट्रीयकृत कर दिया. अब्दुल नासिर के इस फैसले से नाराज होकर ब्रिटेन, फ्रांस और इस्राएल ने मिलकर मिस्र पर हमला कर दिया. संयुक्त राष्ट्र के दखल के बाद इन देशों को अपने कदम वापस खींचने पड़े.

DW.COM

संबंधित सामग्री