1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

इतिहास में आजः 10 सितंबर

स्विट्जरलैंड की सर्न प्रयोगशाला के लार्ज हेड्रॉन कोलाइडर में अब तक का सबसे बड़ा वैज्ञानिक प्रयोग आज ही के दिन 2008 में शुरू हुआ.

यूरोपीयन ऑर्गेनाइजेशन फॉर न्यूक्लियर रिसर्च ने 10 साल की कड़ी मेहनत के बाद इस कोलाइडर को तैयार किया है जिसका मकसद पार्टिकल फिजिक्स और हाई एनर्जी फिजिक्स के सिद्धांतों की पुष्टि करना है खासतौर से हिग्स कणों के सिद्धांत. लार्ज हेड्रॉन कोलाइडर यानी एलएचसी से विज्ञान के कुछ अनसुलझे रहस्यों पर से पर्दा उठाने की उम्मीद की जा रही है. इन सिद्धांतों से पर्दा उठा तो भौतिकी के नियमों के बारे में इंसानी समझ काफी आगे चली जाएगी.

एलएचसी को दुनिया के 100 से ज्यादा देशों के 10 हजार से ज्यादा वैज्ञानिकों ने मिल कर तैयार किया है. फ्रांस और स्विट्जरलैंड की सीमा पर जिनेवा में यह 27 किलोमीटर लंबी सुरंग में फैला है जिसकी गहराई करीब 175 मीटर है. यह अब तक की सबसे विशाल और जटिल प्रयोगशाला है. इस प्रयोगशाला से हर साल दसियों पेटाबाइट्स की दर से कॉलिजन डाटा निकल रहे हैं जिनका ग्रिड आधारित कंप्यूटर नेटवर्क के जरिए विश्लेषण किया जा रहा है. यह नेटवर्क 35 देशों के 140 कंप्यूटर केंद्रों में फैला है.

DW.COM