1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

इटली की पहली महिला अंतरिक्ष यात्री आईएसएस पर

इटली की पहली महिला अंतरिक्ष यात्री रविवार को रूसी अंतरिक्ष यान सोयूज में सवार होकर अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन पहुंच गई. तीन अंतरिक्ष यात्रियों के साथ इटैलियन कॉफी मशीन भी आईएसएस पर पहुंची.

रूसी अंतरिक्ष एजेंसी रॉसकॉसमस ने एक बयान में कहा है कि कजाकिस्तान के बैकोनुर स्टेशन से रविवार को सोयूज टीएमए-15 एम अंतरिक्ष यान सामांथा क्रिस्टोफोरेती के साथ रूसी अंतरिक्ष यात्री आंटोन श्काप्लेरोव और अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री टैरी विर्ट्स को लेकर रवाना हुआ था.

तीनों अंतरिक्ष यात्री मई 2015 तक अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन पर रहेंगे. अंतरिक्ष यात्री अपने साथ पर्याप्त खाद्य सामग्री भी ले जा रहे हैं, आधा किलो काविया (मछली के अंडे) और एक एस्प्रेसो मशीन भी आईएसएस पहुंचे हैं.

अंतरिक्ष स्टेशन के एक अधिकारी के हवाले से रूसी प्रेस एजेंसी तास ने बताया, "15 डिब्बे काविया, सेब, संतरा, टमाटर और सूखा मिल्क पाउडर और बिना शक्कर वाली ब्लैक टी भी यात्री ले जा रहे हैं."

आखिरकार स्टेशन पर मौजूद यात्री शानदार ब्रू कॉफी का भी आनंद ले पाएंगे क्योंकि 20 किलो वजनी कॉफी मशीन साथ जा रही है. इस मशीन को इटली की कॉफी मशीन बनाने कंपनी लावासा ने तैयार किया है.

37 वर्षीय क्रिस्टोफोरेती इटली की वायु सेना में कैप्टन भी हैं. कुल 16 देश अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन पर काम करते हैं जिनमें रूस और अमेरिका भी शामिल हैं.

अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन पर हमेशा अंतरिक्ष यात्रियों का दल मौजूद रहता है. अंतरिक्ष यात्री वहां 6 महीने बिताते हैं. रवाना होने से पहले अंतरिक्षयात्री विर्ट्स ने संवाददाताओं से कहा, "मैं सोचता हूं कि आज से 100 साल बाद या 500 साल बाद लोग आज उठाए जा रहे इस कदम को अंतरिक्ष की अपार संभावनाओं को तलाशने की दिशा में उठाया गया एक नन्हा कदम मानेंगे." अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन पर पहुंचे नए सदस्य छह महीने वहां रहेंगे.

एए/एएम (एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री