1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

इंसान जैसा रोबोट तैयार

सिंगापुर की वैज्ञानिक नाडिया थाल्मन ने ऐसा रोबोट तैयार कर लिया है जो हूबहू इंसानों से मेल खाता है. नदीन नाम का ये रोबोट बातचीत भी करता है, खेलता है और कहानी भी सुनाता है.

हूबहू इंसान की तरह भूरे बाल, कोमल त्वचा और आकर्षक चेहरा. ये नदीन नाम का एक नया मानव रोबोट है. ​वैज्ञानिकों को उम्मीद है कि इस ह्यूमेनॉयड रोबोट का इस्तेमाल आने वाले समय में निजी सहायक के बतौर या बुजुर्गों की देखभाल करने के लिए किया जा सकेगा.

1.7 मीटर लंबी नदीन, इसे ​बनाने वाली वैज्ञानिक नाडिया थाल्मन जैसी ही दिखती है. थाल्मन सिंगापुर के नांगयांग टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी के इंस्टिट्यूट ऑफ इनोवेशन की ​विजिटिंग प्रोफेसर और निदेशक हैं. यहां वे पिछले तीन दशकों से आभासी मानवों यानि वर्चुअल ह्यूमंस पर काम कर रही हैं.

नदीन का सॉफ्टवेयर उसे कई तरह के मनोभावों को जाहिर करने पिछली बातचीत को याद करने में मदद करता है. साथ ही वह बातचीत का जवाब भी दे सकती है. नदीन अभी बाजार में उपलब्ध नहीं है लेकिन थाल्मन का मानना है कि ये रोबोट एक दिन विक्षिप्त लोगों के सहायक की तरह भी काम कर सकेंगे.

थाल्मन कहती हैं, ''अगर आप इस तरह के लोगों को अकेला छोड़ देंगे तो वे बहुत जल्दी मायूस हो जाएंगे, इनसे हमेशा बातचीत करते रहनी होती है.'' वे कहती हैं कि नदीन बातचीत कर सकती है, कहानी सुना सकती है और खेल भी सकती है.

थाल्मन और उनकी टीम और भी नए किस्म के रोबोट बनाने पर काम कर रही हैं जो बच्चों के साथ भी खेल सकेंगे. यह प्रोजेक्ट अभी शुरुआती दौर में है और उसका कोई प्रोटोटाइप उपलब्ध नहीं है. लेकिन योजना है कि वह सवालों का जवाब दे सके, मावनाएं दिका सके और लोगों को पहचान सके. साथी होने के अलावा ये बाल रोबोट अकेले बच्चों पर नजर रखेंगे और गड़बड़ होने पर उनके माता पिता या आया को खबर कर सकेंगे.

थाल्मन का कहना है कि ये परियोजना अभी अपने शुरूआती दौर में है. इसमें कोशिश की जा रही है कि ये चाइल्ड रोबोट अलग अलग भाषाओं में बोल सकें ताकि इसे बच्चों को कई भाषाएं सीखने में मदद मिल सके. "बच्चों के पास खिलौने होते हैं लेकिन वे सक्रिय नहीं होते. बाल रोबोट सक्रिय खिलौने होंगे और बच्चों के साथ संवाद करेंगे." रोबोट का एजुकेशनल टूल की तरह इस्तेमाल किया जा सकेगा.

आरजे/एमजे (रॉयटर्स)

DW.COM