1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

इंडोनेशिया में इस्लामिक गेम

दुनिया भर के 46 देशों से 1,800 खिलाड़ी इस्लामिक सॉलिडेरिटी गेम्स में शामिल होने इंडोनेशिया पहुंचे हैं. हालांकि खेलों की व्यवस्था की आलोचना भी हो रही है.

इंडोनेशिया के राष्ट्रपति सुशिलो बामबांग युधोयोनो ने खेल के उद्घाटन समारोह में कहा, "अपना राजनीतिक भार अलग रख देते हैं. इस आयोजन के जरिए हम ये साबित करने की कोशिश करते हैं कि इस्लामिक देश एकता और तालमेल के साथ रह सकते हैं." उन्होंने मिस्र, सीरिया, फलीस्तीनी इलाके के खिलाड़ियों का स्वागत किया.
सुमात्रा के पालेमबांग में रविवार को ये खेल शुरुआत हुए. सादे उद्धाटन समारोह से यह झलक रहा था कि खेलों के लिए निवेश की कमी है. स्थानीय आयोजकों ने बताया कि उन्हें अभी भी सरकार से पैसे नहीं मिले हैं.

आयोजक कमेटी के वरिष्ठ सदस्य जोको प्रामोनो ने कहा, "यह डरावना है कि अभी तक पैसे नहीं दिए गए हैं. हम हर तरफ सहयोग की मांग कर रहे हैं कि खेल योजना के हिसाब से चलें."

DW.COM

पहली अक्टूबर तक चलने वाले इन खेलों में बहुत सारी व्यवस्थाओं की कमियों में आयोजन स्थल का बदलना भी शामिल है. दो बार खेलों के आयोजन स्थल बदले गए. पहले इसे सुमात्रा के रियाऊ से जकार्ता में करने का विचार किया गया, बाद में सुमात्रा अधिकारियों की शिकायत आई. फिर खेल का आयोजन स्थल बदल कर पालेमबांग किया गया.

नई जगह पर सब कुछ शिफ्ट करने के लिए आयोजकों के पास दो महीने से भी कम का समय था. पहली बार यह खेल सऊदी अरब में आयोजित किए गए थे. जहां बिकिनी पर रोक थी. महिलाओं और पुरुषों को अलग अलग दिन प्रतियोगिता में शामिल होना था. इतना ही नहीं महिलाओं की तैराकी प्रतियोगिता देखने की अनुमति पुरुषों को नहीं थी.

अब तीसरे इस्लामिक सॉलिडेरिटी गेम्स में इस तरह के प्रतिबंध तो नहीं हैं. उन्होंने महिला और पुरुषों के इवेंट अलग अलग दिन करने से भी इनकार कर दिया है. प्रामोनो ने बताया, "हमने पिछसे साल से ही कह रखा है कि हम मुस्लिम नहीं अंतरराष्ट्रीय नियमों को लागू करेंगे. हम खिलाड़ियों को पूरी छूट दे रहे हैं कि वो जो चाहें पहन सकते हैं. अगर वो बीच वॉलिबॉल के लिए बुरका या स्कार्फ पहनना चाहते हैं तो जरूर पहन सकते हैं. हम रोक नहीं लगाएंगे."

इंडोनेशिया की ओलंपिक कमेटी की अध्यक्ष रीता सुबुवो के हवाले से एएफपी समाचार एजेंसी ने लिखा है कि इंडोनेशियाई बीच वॉलीबॉल टीम टू पीस कॉस्ट्यूम पहनेगी क्योंकि इससे खेलने में आसानी होती हौ और इसे अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक कमेटी मंजूरी दी है. खेलों की शुरुआत बास्केटबॉल और फुटबॉल मैचों के साथ हुई है. आने वाले दिनों में 11 दूसरे मुकाबले भी होंगे.

एएम/एनआर(एएफपी)

संबंधित सामग्री