1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

इंटरनेट बादशाह बनने की राह पर भारत

भारत जल्द ही इंटरनेट की दुनिया का बड़ा खिलाड़ी बनने वाला है. 2015 तक भारत में इंटरनेट इस्तेमाल करने वालों की संख्या बढ़कर 23 करोड़ 70 लाख हो जाएगी. अभी आठ करोड़ से ज्यादा भारतीयों की इंटरनेट तक पहुंच है.

default

इंटरनेट सर्फ करते लोग

बोस्टन के कंसल्टिंग ग्रुप की रिपोर्ट इंटरनेट्स न्यू बिलियन का कहना है कि 2015 तक ब्रिक्री देश यानी ब्राजील, रूस, भारत, चीन और इंडोनेशिया में इंटरनेट इस्तेमाल करने वालों की संख्या बढ़ कर एक अरब 20 करोड़ हो जाएगी. यह संख्या जापान और अमेरिका के इंटरनेट यूजर्स से भी काफी ज्यादा होगी. 2009 के दौरान ब्रिकी देशों में इंटरनेट इस्तेमाल करने वालों की संख्या 61 करोड़ रही.

NO FLASH Symbolbild Internet Sicherheit

रिपोर्ट कहती है कि 2009 से 2015 के बीच ब्रिकी देशों में इंटरनेट यूजर्स की तादाद में सालाना 9 से 20 प्रतिशत की रफ्तार से इजाफा होगा. इसकी बड़ी वजह होगी युवा पीढ़ी. ब्रिकी देश में दुनिया की सबसे ज्यादा आबादी रहती है. इसलिए वहां इंटरनेट इस्तेमाल करने वाली संख्या में वृद्धि को लेकर ज्यादा हैरानी भी नहीं होनी चाहिए. भारत को तेज रफ्तार के साथ बढ़ने वाला बाजार बताते हुए रिपोर्ट कहती है कि 2015 तक 19 प्रतिशत लोग इंटरनेट इस्तेमाल करने लगेंगे. फिलहाल यह तादाद सात प्रतिशत के आसपास है. इसके मुताबिक अभी भारत में 8 करोड़ 10 लाख इंटरनेट यूजर्स हैं. 2015 तक यह संख्या तीन गुनी वृद्धि के साथ 23 करोड़ 70 लाख हो जाएगी. फिलहाल चीन में दुनिया के सबसे ज्यादा इंटरनेट यूजर हैं. करीब 36 करोड़.

अभी भारत में ज्यादातर इंटरनेट इस्तेमाल करने वाले बड़े शहरों में ही रहते हैं. हालांकि वहां छोटे शहरों और कस्बों से भी लोग आकर बसे हैं. रिपोर्ट के अनुसार फिलहाल भारतीय लोगों की इंटरनेट तक सीमित पहुंच है, लेकिन जल्द ही इसमें विस्तार होगा. इसके मुताबिक भारत में इंटरनेट यूजर्स औसतन आधा घंटा ही वर्ल्ड वाइड वेब की दुनिया में रहते हैं. यह ब्रिकी देशों में सबसे कम औसत है. यह औसत 2015 तक बढ़कर लगभग पौना घंटा होने की उम्मीद है. हालांकि फिर भी भारत इस मामले में अन्य ब्रिकी देशों के मुकाबले पीछे ही रहेगा.

Flash-Galerie Bildung in Deutschland Schule

हालांकि यह एक सधा हुआ अनुमान ही है. लेकिन इंटरनेट सेवा की कीमतें घटने और नेटवर्क बढ़ने से कुछ और भी हैरान करने वाली बातें सामने आ सकती हैं. अभी बहुत कम लोगों के पास ही कंप्यूटर हैं. लेकिन इंटरनेट सुविधा वाली मोबाइल फोनों की संख्या बढ़ रही है. भारतीय बाजार में वृद्धि की बड़ी संभावना ग्रामीण क्षेत्रों में छिपी है.

रिपोर्टः एजेंसियां/ए कुमार

संपादनः ए जमाल

DW.COM

WWW-Links