1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

इंग्लैंड में कोचिंग को बेताब गुआर्डिओला

स्पेन के क्लब बार्सिलोना को सफलता की बुलंदी तक पहुंचाने वाले पेप गुआर्डिओला अब इंग्लैंड में गुरु मंत्र देना चाहते हैं. वह कई क्लबों से बातचीत कर रहे हैं, साथ ही इंग्लिश फुटबॉल के प्रति प्यार का इजहार भी कर रहे हैं.

2008 से 2012 तक बार्सिलोना के कोच रहने के बाद अब पेप गुआर्डिओला फिर कोचिंग स्टैंड में उतरना चाह रहे हैं. फिलहाल वह अपने परिवार के साथ न्यूयॉर्क में हैं. उनकी ख्वाहिश है कि जल्द ही लंदन में रहने का मौका मिलना चाहिए. वह कहते हैं, "मुझे इंग्लिश फुटबॉल ने हमेशा रोमांचित किया है, चाहे वह माहौल की बात हो या फिर भीड़ और प्रशसंकों की. उस लीग का मजा सबसे अलग है. मैं प्रशंसकों, मीडिया और खिलाड़ियों के खेलने के तरीके और वहां की हर चीज को आनंद लेना चाहता हूं."

मीडिया रिपोर्टों में गुआर्डिओला का नाम चेल्सी, मैनेचेस्ट यूनाइटेड और मैनचेस्टर सिटी से जोड़ा जा रहा है. जर्मनी के दिग्गज फुटबॉल क्लब बायर्न म्यूनिख और इटली के एसी मिलान से भी उनका कनेक्शन निकाला जा रहा है. बायर्न के 67 साल के कोच युप हाइंकेस का करार इस साल जून में खत्म हो रहा है. बीते साल चैंपियंस लीग के फाइनल में हारने वाला बायर्न इस बार फिर लीग की अंतिम 16 टीमों में है.

ऐसी अटकलों के बीच इंग्लिश फुटबॉल एसोसिएशन की वेबसाइट में गुआर्डिओला के बयान ने कुछ संकेत दिए हैं, "एक खिलाड़ी होने के नाते मैं वहां (इंग्लैंड में) खेलने के सपने को पूरा नहीं कर सका. लेकिन उम्मीद है कि भविष्य में मुझे वहां कोचिंग की या मैनेजर की की चुनौती का सामना करना पड़ेगा. मैं उन अनुभवों को महसूस कर सकूंगा जो वहां रह चुके कोच और खिलाड़ी पा चुके हैं."

गुआर्डिओला ने बीते साल बार्सिलोना के कोच का पद छोड़ा. उनकी अगुवाई में बार्सिलोना ने 14 ट्रॉफियां जीतीं. क्लब दो बार यूरोपीय फुटबॉल के सबसे प्रतिष्ठित मुकाबले चैंपियंस लीग का विजेता बना. स्पेनिश लीग ला लीगा का टाइटल लगातार तीन बार जीतने में सफल रहा.

बार्सिलोना के पूर्व कोच को लगता है कि उम्र अभी उनके हाथ में हैं, "मैं अब भी जवान हूं, सिर्फ 41 साल का हूं. मुझे उम्मीद है कि भविष्य में मैं वहां ट्रेनिंग दे सकूंगा और उसका लुत्फ उठा सकूंगा. मैं इंग्लिश फुटबॉल को 150वें जन्मदिन पर बधाई देता हूं. इस खूबसूरत से खूबसूरत खेल के विकास में आप बहुत अहम हैं."

वैसे कहा यह भी जा रहा है कि गुआर्डिओला बड़े क्लबों के साथ चूहे बिल्ली का खेल खेल रहे हैं. वह मोल भाव तय कर रहे हैं. स्टार कोच को जो सबसे बढ़िया ऑफर देगा, फुटबॉल की दीक्षा उसे ही मिलेगी, फिर वो चाहें इंग्लैंड हो, जर्मनी हो या फ्रांस या फिर इटली.

ओएसजे/ (रॉयटर्स)

DW.COM

WWW-Links