1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

इंग्लैंड क्रिकेट टीम जर्मनी के खुफिया दौरे पर

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एशेज से पहले इंग्लैंड की पूरी क्रिकेट टीम ने चुपचाप पांच दिनों तक जर्मनी का दौरा किया. वे दक्षिणी जर्मन राज्य बवेरिया में रहे. इस दौरान किसी भी खिलाड़ी के पास मोबाइल फोन भी नहीं था.

default

मोबाइल बगैर खिलाड़ी

ट्रिप से पहले किसी भी खिलाड़ी को इस बात की जानकारी नहीं थी कि वे कहां जा रहे हैं. सिर्फ कोच एंडी फ्लावर और उनके खासमखास लोगों को ही पता था कि वे जर्मनी जा रहे हैं. खिलाड़ियों से कहा गया कि वे सिर्फ अपने पासपोर्ट और वॉकिंग शूज लेकर आएं लेकिन मोबाइल फोन नहीं. शायद अधिकारियों को अंदेशा था कि केविन पीटरसन या ग्रेम स्वान में से कोई कहीं कोई संदेश ट्वीट न कर दे.

Deutschland Altstadt mit der Festung in Passau

बवेरिया की वादियों में

उन्होंने जर्मन शहर न्यूरेमबर्ग में वक्त बिताया और इस दौरान शारीरिक और मानसिक अभ्यास किया. खिलाड़ियों ने बॉक्सिंग और हाइकिंग की. पिछले गुरुवार को शुरू हुआ यह ट्रिप मंगलवार को पूरा हुआ और खिलाड़ी इंग्लैंड लौट गए.

इससे पहले उन्होंने बवेरिया में डकाऊ के यातना शिविर को देखा, जो 1933 में नाजी जर्मन साम्राज्य में बना था. आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक इस शिविर में 40,000 से ज्यादा लोगों की जान गई थी.

इंग्लैंड की टीम ने पिछले एशेज मुकाबले से पहले बेल्जियम में बेल्जियम के फ्लैंडर्स में पहले विश्व युद्ध के जंग का मैदान देखा था. इंग्लैंड अपने देश में खेले गए उस एशेज सीरीज को 2-1 से जीतने में कामयाब रहा. लेकिन इस बार उसे ऑस्ट्रेलिया की धरती पर खेलना है.

इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड ने एक बयान जारी कर कहा कि खिलाड़ियों का जर्मनी दौरा उन्हें मानसिक और शारीरिक रूप से तैयार करने के लिए था. एशेज से पहले इस तरह की रिवायत की शुरुआत ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान स्टीव वॉ ने की थी, जब 2001 में उन्होंने टीम के साथ तुर्की जाकर पहले विश्व युद्ध का मैदान गलीपोली देखा था.

इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच एशेज सीरीज का पहला टेस्ट मैच 25 अक्तूबर से ब्रिसबेन में खेला जाएगा.

रिपोर्टः एजेंसियां/ए जमाल

संपादनः एस गौड़

WWW-Links