1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

इंग्लैंड को अमेरिका ने ड्रॉ पर रोका

वेन रूनी की इंग्लैंड फुटबॉल टीम विश्व कप का पहला मैच नहीं जीत पाई. लेकिन अमेरिका के खिलाफ मैच में खूब ड्रामा हुआ, खूब धक्का मुक्की. छह पीले कार्ड और गोलकीपर के फिसलते हुए हाथ ने फुटबॉल प्रेमियों को बहुत कुछ दिया.

default

कोरलोस बोकानेगरा से जूझते वेन रूनी

वर्ल्ड कप खिताब की प्रबल दावेदार इंग्लैंड की टीम ने शुरुआत तो चैंपियन की तरह ही किया. पहले हाफ के चौथे मिनट में कप्तान स्टीवन जेरार्ड ने शानदार गोल करके टीम को बढ़त दिला दी, लेकिन हाफ खत्म होने से ठीक चार मिनट पहले इंग्लैंड के गोलकीपर रॉबर्ट ग्रीन का हाथ फिसल गया और अमेरिका को बराबरी का गोल तोहफे में मिल गया.

यूं तो फुटबॉल में अमेरिका का इंग्लैंड से कोई मुकाबला नहीं लेकिन ब्लू जर्सी वाली टीम ने मुकाबला कर लिया. पक्के तौर पर कमजोर मानी जा रही अमेरिकी टीम में न तो कोई बड़ा सितारा है और न ही उनके खेल के बारे में ज्यादा

England - USA WM Weltmeisterschaft Tor

ग्रीन की पकड़ से फिसली गेंद

कुछ कहा जा सकता है. लेकिन फिर भी इंग्लैंड के खिलाड़ियों को बांध देने में उन्होंने कोई कसर नहीं छोड़ी. मौके बे मौके इंग्लिश खिलाड़ी हताश और निराश होते नजर आए.

इन्ही क्षणों में सब्र के बांध भी टूटते रहे और खिलाड़ी दूसरे पक्ष के फुटबॉलरों से उलझते नजर आए. कई बार गेंद की जगह विपक्षी खिलाड़ियों के शरीर को निशाना बनाया गया और रेफरी को बार बार अपना हाथ जेब तक ले जाना पड़ा. मैच के दौरान कुल छह खिलाड़ियों को यलो कार्ड दिखाए गए. दोनों टीमों के तीन तीन खिलाड़ियों को. हालांकि इंग्लैंड और अमेरिका, दोनों ही खुशकिस्मत रहे कि किसी खिलाड़ी को दूसरे पीले कार्ड की नौबत नहीं आई.

ग्राउंड के बाहर इंग्लैंड के कोच फाबियो कपेलो के अलावा स्टार फुटबॉलर डेविड बेखम भी बैठे थे. बेखम चोट की वजह से वर्ल्ड कप में नहीं खेल पा रहे हैं. लेकिन

England - USA WM Weltmeisterschaft David Beckham

देखते रह गए बेखम

कपेलो और बेखम को सिर्फ निराशा ही हाथ लगी. मैच 1-1 से ड्रॉ हो गया. दोनों टीमों को सिर्फ एक एक अंक मिले.

खेल शुरू होते ही कप्तान जेरार्ड ने बेहतरीन तरीके से गोल करके टीम को बढ़त दिला दी. इसके बाद मैच में इंग्लैंड का पलड़ा भारी लगने लगा. लेकिन बीच बीच में दोनों पक्षों के खिलाड़ी उलझते हुए भी नजर आए. एक बार इंग्लैंड के एक खिलाड़ी का बूट अमेरिकी गोलकीपर की छाती से ऐसा टकराया कि उसे उठने में कई मिनट लगे.

इसके बावजूद खेल चलता रहा. अमेरिकी गोलकीपर ने जहां कुछ बेहतरीन शॉट्स बचाए, वहीं इंग्लैंड के गोलकीपर रॉबर्ट ग्रीन विलेन बन कर उभरे. 25 गज की दूरी से क्लिंट डेम्पसी

England - USA WM Weltmeisterschaft Flash-Galerie

डेंपसी ने मारा गोल

के आसान शॉट को ग्रीन ने रोका लेकिन गेंद संभाल नहीं पाए. फुटबॉल उनके हाथों से लटपटाती हुई गोल में जा समाई. अब तक मैच पर भारी पड़ रही इंग्लैंड की टीम इस सदमे से उबर नहीं पाई. इसके बाद मैच में फुटबॉल पर कम और खिलाड़ियों पर ज्यादा निशाना लगने लगा.

वेन रूनी, एशले कोल, स्टीवन जेरार्ड, लैम्पार्ड और टेरी जैसे सितारों से भरी टीम एक लय में नहीं आ पाई और हमले बार बार टूटने लगे. दूसरे हाफ में अमेरिकी टीम चढ़ बैठी और इंग्लैंड के खिलाड़ियों को परेशान कर दिया. वो तो भला हो ग्रीन का, कि उन्होंने आखिरी मिनट में एक तयशुदा गोल रोक दिया. हालांकि बाद में भी ऐसे मौके आए, जब ग्रीन के हाथ से गेंद फिसलती नजर आई.

इंग्लैंड बेहद आसान ग्रुप में है, जहां अमेरिका के अलावा अल्जीरिया और स्लोवेनिया की टीमें हैं. ग्रीन को लेकर टीम की चिंता बढ़ रही है और हो सकता है कि आने वाले मैचों में उन्हें नए गोलकीपर की तलाश करनी हो. दूसरे गोलकीपर की तबीयत ठीक नहीं है. हालांकि कोच कपेलो और कप्तान जेरार्ड गोलकीपर ग्रीन पर ज्यादा दोष नहीं देते और कहते हैं कि वह भी इनसान हैं. ऐसी गलतियां हो जाती हैं और वर्ल्ड कप में अभी बहुत मौके बचे हुए हैं. इंग्लैंड को अब अल्जीरिया से खेलना है.

रिपोर्टः अनवर जे अशरफ

संपादनः एम गोपालकृष्णन

संबंधित सामग्री