1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

जर्मन चुनाव

आसिफ ले सकते हैं ब्रिटेन में शरण

फिक्सिंग के आरोपों से दो चार हो रहे पाकिस्तानी क्रिकेटर मोहम्मद आसिफ ब्रिटेन में शरण ले सकते हैं. इन आरोपों के बाद वे शायद पाकिस्तानी क्रिकेट प्रेमियों के गुस्से से बचने के लिए उनकी नज़रों से दूर ही रहना चाहते हैं.

default

घबराए आसिफ

ब्रिटिश मीडिया में ऐसी ख़बरें हैं कि स्पॉट फिक्सिंग का आरोप झेल रहे मोहम्मद आसिफ ने ब्रिटेन के आप्रवास कार्यालय में इस संबंध में पूछताछ की है.

इंग्लिश दैनिक द डेली टेलीग्राफ ने लिखा है कि पूछताछ के सिलसिले में फिलहाल इंग्लैंड में रह रहे आसिफ वहीं शरण लेने की सोच रहे हैं. ब्रिटिश टेब्लॉइड का दावा है कि शुक्रवार को वे आप्रवास मामलों के एक वकील से मिले और उनसे करीब 35 मिनट तक बातचीत की. "आसिफ ने कहा कि उन्हें डर है कि ताज़ा फिक्सिंग के आरोपों के कारण वे ख़तरनाक गैंग्स का शिकार हो सकते हैं जो ग़ैरकानूनी सट्टेबाज़ी करती हैं और अंडरवर्ल्ड से जुड़े हुए है."

Cricket Pakistan Salman Butt

अख़बार की रिपोर्टों के मुताबिक आसिफ ने वकील से पूछा कि ब्रिटेन में रहने का क्या तरीका है और शरण लेने की प्रक्रिया के लिए क्या करना होगा.

हालांकि वकील ने कहा, "उन्होंने सबसे पहले शरण लेने के बारे में कुछ नहीं कहा. उन्होंने पूछा कि मैं यहां कैसे रह सकता हूं. मैंने कहा छात्र बन कर रह सकते हो. यहां पढ़ाई करने के लिए आ सकते हैं या फिर यहां काम करने के परमिट के लिए आवेदन कर सकते हैं. लेकिन फिर उन्होंने शरण लेने के बारे में पूछा."

आसिफ, सलमान बट और मोहम्मद आमेर से स्कॉटलैंड यार्ड पुलिस स्पॉट फिक्सिंग के बारे में पूछताछ कर रही है.

ताज़ा रिपोर्ट में कहा गया है कि आसिफ स्कॉटलैंड यार्ड और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद की जांच के फैसले का इंतज़ार कर रहे हैं. आसिफ ने निर्दोष होने की बात कही है.

आप्रवास मामलों के जानकारों का कहना है कि अगर आसिफ ये साबित करने में सफल होते हैं कि उनके जीवन को ख़तरा है तो उन्हें शरण मिल सकती है. "मुझे लगता है कि पाकिस्तान में होने वाली उग्र प्रतिक्रिया के बारे में उन्हें बहुत चिंता है. यही उन्होंने मुझे कहा. बहुत सारी बातें हुई और यह भी कि वहां सट्टेबाज़ी करने वाले माफिया के पास बहुत ताकत है. इस पर आसिफ चिंतित दिखाई दिए." आप्रवास मामलों के वकील ने बताया, "अगर वे शरणार्थी के तौर पर आवेदन करना चाहते हैं तो हम देखेंगे कि हम उनके लिए क्या कर सकते हैं."

रिपोर्टः एजेंसियां/आभा एम

संपादनः उ.भट्टाचार्य

DW.COM

WWW-Links