1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

आसमान में उड़ान भरेंगे मोदी और ओबामा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अब पटना के आसमान में उड़ान भरने जा रहे हैं. मकर संक्राति के मौके पर उनकी और ओबामा की तस्वीर वाली पतंग की काफी मांग है

14 जनवरी को मकर संक्राति के दिन पतंग उड़ाने की परंपरा सदियों से चली आ रही है. इस दिन लोग चूड़ा दही खाने के बाद मकानों की छतों तथा खुले मैदानों की ओर दौड़े चले जाते हैं और पतंग उड़ाकर दिन का मजा लेते हैं.

इस साल के पतंग महोत्सव को लेकर बिहार की राजधानी पटना में नरेंद्र मोदी की तस्वीर वाली पतंगों की धूम मची हुई है. वहीं इस गणतंत्र दिवस पर बतौर मुख्य अतिथि शिरकत करने आ रहे अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा की तस्वीर वाली पतंगों की भी बहार आई हुई है. मोदी के चित्र वाली पतंगों की कीमत 50 रूपए तक है. इनमें से कुछ पतंगों में मोदी लोगों को नववर्ष की शुभकामनाएं देते नजर आ रहे हैं, वहीं कुछ में उनके चित्र के नीचे महानायक लिखा हुआ है. इन सबके साथ ही नए पैटर्न वाली पतंगों में मोदी और ओबामा साथ साथ देखे जा सकते हैं.

पटना के एक थोक व्यापारी राम चौरसिया बताते हैं, "पहले जहां फिल्म स्टारों की तस्वीर वाली पतंगों की मांग ज्यादा रहती थी वहीं अब इनकी जगह मोदी और ओबामा जैसी राजनीतिक हस्तियों की फोटो वाली पतंगों ने ले ली है. इन सबके साथ बच्चों के रूझान को देखते हुए कार्टून चरित्रों जैसे छोटा भीम और स्पाइडर मैन के चित्र वाली पतंगे भी आसमान में उड़ान भरने को तैयार हैं." चौरसिया का कहना है कि बाजार में पांच रूपये से लेकर 50 रूपए तक की पतंग बिक रही हैं. जबकि लटाई की कीमत 10 से 300 रूपए तक है. पतंगें बनारस से, लटाई मुरादाबाद से और मांझे लखनऊ से मंगाए जाते हैं. चाइनीज धागे वाली लटाई 50 से लेकर 800 रूपये तक में बिक रही हैं.

पतंग के एक अन्य थोक व्यापारी ने कहा, "युवाओं में भी मकर संक्राति के दिन पतंग उड़ाने का क्रेज जोरों पर है. अपने प्यार का इजहार करने के लिए युवा वर्ग दिल और आई लव यू वाली पतंगों के प्रति आकर्षित होते दिख रहे हैं." पिछले तीन सालों से पटना में पतंग का कारोबार काफी बढ़ा है. पटना के गंगा दियारा क्षेत्र में पतंग उत्सव मनाने की राज्य सरकार की पहल के बाद लोगों का रूझान इस ओर तेजी से बढ़ा है. पटना सहित कई इलाकों में पतंग प्रतियोगिताएं भी शुरू हुई हैं.

आईबी/एमजे (वार्ता)

DW.COM